Thursday, 13 February 2014

ख़ुशी की चहक

कहीं  तो नव  बहारों  की   महक  मिलती 
कभी तो  वादियों  में  भी  चहक  मिलती 
समझ  पाते  अगर यह दर्द दिल  का तुम 
तभी दिल को ख़ुशी की भी चहक  मिलती 

रेखा जोशी