Friday, 1 August 2014

संस्कार [शीर्षक ]

संस्कार [शीर्षक ]

सुबह सुबह मीता ने अपने पति आलोक और बेटे बबलू के साथ मॉर्निंग वाक पर जाना शुरू कर दिया । हर बात पर बबलू को अपने पिता की नक़ल करते देख उसे बहुत ख़ुशी मिलती थी ,आलोक के साथ अपनी ख़ुशी बांटते हुए बोली ,''देखो अपना बबलू तो बिलकुल तुम्हारी तरह बन रहा है ,'' सुन कर नन्हा बबलू बोला ,हाँ माँ मे बड़े हो कर बिलकुल पापा की तरह ही बनु गा ,सुबह आफिस जाऊँ गा ,बाईक चलाऊँ गा और रात को पापा की तरह दो पैग पी कर आप से  से झगड़ा किया करूँ गा ।''उसकी बात सुन कर मीता और अलोक अवाक रह गए ।

रेखा जोशी