Tuesday, 31 March 2015

आये तुम लाये सँग बहारें[गीत ]

गीत

है पल पल तुमको हम निहारें
आये  तुम   लाये  सँग  बहारें
..........................................
 चूमें   मेरा  चाँदनी   आँचल
सुहानी पवन बह रही शीतल
मन में मचलती हलचल मेरे
तुमको  दीवाना दिल  पुकारे
..........................................
तुम जो मिले हमसे पल दो पल
हैं गुनगुनाते गुलाब खिल खिल
महकाती   अँगना  यह   हवायें
गाने   लगी   गीत  अब    बहारें
..........................................
पल पल हम तुमको है निहारें
आये   तुम  सँग  लाये   बहारें

रेखा जोशी

खूबसूरत मुखड़ा प्यार भरा


खूबसूरत  मुखड़ा  प्यार भरा
है सुन्दर बचपन  निहार रहा
भोले    नैना    कौतूहल   भरे
देख  संसार वह  विचार  रहा

रेखा जोशी

Monday, 30 March 2015

भोले नयन कोतूहल भरे

हँसते आँसू
भोले नयन कोतूहल भरे
घूर रहे
बचपन मेरा
धुले कपड़े मेरे

जानता हूँ मै
पगडंडियों के रास्ते
उड़ती धूल से
बिखरते बाल मटमैले कपड़े
भागते बच्चे धूल उड़ाते

छुप गया वह चेहरा
अजनबी सा  दूर कहीं
खो गया अपरिचित सा
मेरी पलकों में
तैर रहे
भोले नयन कोतूहल भरे
घूर रहे
बचपन मेरा
धुले कपड़े मेरे

यादों में मेरी
चिपका रहा चेहरा
वही
भोले नयन कोतूहल भरे
घूर रहे
बचपन मेरा
धुले कपड़े मेरे

रेखा जोशी


Sunday, 29 March 2015

इतने दिये ज़ख्म कि ज़ख्म ही दवा बने

बहुत  रो  लिये  न हम रोयेंगे अब सनम 
टूट गया  दिल न उफ्फ करेंगे अब सनम 
इतने दिये ज़ख्म कि ज़ख्म ही दवा बने 
बहुत सह चुके न और  सहेंगे अब सनम 

रेखा जोशी 

जी सके हम जो नही वह ज़िंदगी कैसे कहूँ


जो न  समझे दर्द उसको आदमी कैसे कहूँ 
जी सके हम जो नही वह ज़िंदगी कैसे कहूँ 
…… 
आसमाँ पर चाँद निकला हर तरफ बिखरी किरण 
जो   न  उतरे   घर   हमारे   चाँदनी    कैसे   कहूँ 
...... 
मुस्कुराती हर अदा तेरी सनम जीने न दे 
हाल  अपने  की  हमारे   बेबसी कैसे कहूँ 
…… 
राह मिल कर हम चले थे ज़िंदगी भर के लिये 
मिल सके जो तुम न हम को वह कमी कैसे कहूँ 
…… 
हो  गया रोशन जहाँ जब प्यार मिलता है यहाँ 
जो न आया  घर हमारे रौशनी कैसे कहूँ 

रेखा जोशी 

रह जाती ख्वाहिशें आधी अधूरी

छंदमुक्त रचना 

जी  रहे हम सब यहाँ 
कतरा कतरा ज़िंदगी
न  जाने क्यों हमारी 
रह जाती ख्वाहिशें
आधी अधूरी
करना चाहती
एहसास
पूर्णता का यहाँ 
कतरा कतरा जिंदगी
इससे  पहले
रूठ न जाये  कहीं ज़िंदगी
हमसे 
क्यों न हम जी लें जी भर 
हर लम्हा हम यहाँ 
कतरा कतरा ज़िंदगी 
का 

रेखा जोशी 

खिले हुये फूलों की महक बरकरार है

खिले  हुये  फूलों की महक बरकरार है 
सब  ओर अब छाई  बहार  ही  बहार है
काश तुम  भी चले आओ इन बहारों में 
गर आओ तुम यहाँ ज़िंदगी गुलज़ार है 

रेखा जोशी 

Friday, 27 March 2015

मिल कर हो जायें पार हम दोनों


हम   इक   दूजे  के  ही  सहारे  है 
समय  की  बहती  धार   पुकारे है 
मिल कर  हो जायें  पार हम दोनों 
सुख  दुख जीवन के दो  किनारे है 

रेखा जोशी 


आ बैल मुझे मार

पत्नी से झगड़ कर
चौबे जी
घर से आये बाहर
चले हो कर  बाईक पे सवार
भिड़ते भिड़ते बचे
चौबे जी
जब आई सामने कार
गुस्से में रोकी बाईक
आव देखा न ताव
और खोला कार का द्वार
 कॉलर पकड़  सवार का
गुस्से में हुए लाल
हुई दोनों में खूब तकरार
तू तू मै  मै से हुई शुरू
करते रहे इक दूजे पर वार
तभी ले लिया पंगा
चौबे जी ने
दिये उन्होंने जड़
उस पर हाथ दो चार
तभी आ गये
कार सवार के और साथी चार
हुई धुनाई चौबे जी की
खाई जब उनकी मार
हाथ टूटा पाँव सूजा
चौबे जी
हो गए लाचार
कान पकड़ कर कर ली
तौबा ली कर
काहे लिया खुद ही  पंगा
गुस्से में  हो कर लाल
दिया न्योता मुसीबत को
खुद ही उसे  बुलाया
आ बैल  मुझे मार

रेखा जोशी

Thursday, 26 March 2015

छीन लिया जीवन उसका कोख में ही मार उसे

पूजे  माँ  दुर्गा  को  नारी का  तिरस्कार किया
लेकर अग्नि परीक्षा क्या उसका उपकार किया
छीन  लिया जीवन  उसका कोख में मारा  उसे
खतरे  में  है  अस्मिता   ऐसा  व्यवहार  किया


रेखा जोशी

हमारे साथ है साया हमारा

वक्त ने साथ अब छोड़ा हमारा 
हमारे साथ है साया हमारा 
… 
हमें मिलनी जुदाई थी सजन जब 
खत्म है अब सनम किस्सा हमारा 
.... 
चले थे हम  सफर में साथ दोनो 
कटेगा   याद  में   रस्ता  हमारा 
…… 
सहर ओ शाम हम तुम को  पुकारें 
रहेगा दिल  सदा  तन्हा हमारा 
....... 
सजन देखो डूब कर प्यार में तुम 
बहुत बढ़िया लगे दरिया  हमारा 

रेखा जोशी 

Wednesday, 25 March 2015

सपनो का घर

सपनों के घर में
करना चाहती कैद
धूप को
जगमगा उठे वहाँ
कोना कोना
रोशन हो जायें दीवारे जहाँ
इन्द्रधनुष के रंगों से
खिलखिलाये जहाँ
महकती खुशियाँ
हूँ जानती सजेगा इक दिन
प्रीत की डोर से
मेरे सपनो का घर
और बुझे गी इक दिन
चिर प्यास मेरी
नहीं ओस की बूँदों से
भर जाये गा तब
मेरे अंतर्मन का
प्रेम घट अमृत की
बूँद बूँद से

रेखा जोशी

मिलकर वहाँ हम रहेंगे होगा पूरा अरमान

चलो  सखी चलें दूर हमें बुलाये नया जहान
चीर सीना पर्वतों का पुकारे  खुला आसमान
उन्मुक्त भरते उड़ान जहाँ होकर बंधन मुक्त
मिलकर वहाँ  हम  रहेंगे होगा पूरा अरमान

रेखा जोशी


Tuesday, 24 March 2015

टूट पड़ी बन ज़ुल्म ओ कहर हम पे ज़िंदगी

बहुत जी चुके शाम ओ सहर  हम  ये ज़िंदगी
पाया  न  चैन कभी  दो  पहर  हम ने  ज़िंदगी
दोस्तों  बदल  दिये  मायने  यहाँ  ज़िंदगी  ने 
टूट  पड़ी बन  ज़ुल्म ओ कहर हम पे  ज़िंदगी

रेखा जोशी

Sunday, 22 March 2015

साँवली सलोनी बाई


पाजेब की छम  छम
सुनते ही
ख़ुशी की इक लहर
दौड़ने लगती 
मन में
मिलता सकून
उसके आने की
आहट से
कैसे लिख पाती
कुछ 
अगर आज वह न आती
मुस्कुराती हुई
साँवली  सलोनी
के घर में घुसते ही 
खिल उठा मेरा मन
क्यों न करें 
धन्यवाद उसका 
बुहारती हमारा घर आंगन
हमारे हाथों का
करती काम 
तभी निकल  पाते
हम बाहर घर से
वह और कोई नही
है वह मेरे घर की
साँवली  सलोनी
बाई

रेखा जोशी

मर मिटे आज़ादी पर मस्ताने

शहीद ऐ आज़म ''भगत सिहं , शहीद सुखदेव  , शहीद राजगुरु ''की याद में 

जलते  रहे  शमा  पर  परवाने
हुये   शहीद  वतन  पर दीवाने
शत शत करते देशवासी नमन
मर मिटे आज़ादी पर मस्ताने

23 मार्च शहीद दिवस पर देश के अमर शहीदों को शत शत नमन

रेखा जोशी 

सभी मित्रों को हिंदू नव संवत्सर,नवरात्री की हार्दिक शुभकामनाएँ

सभी मित्रों को हिंदू नव संवत्सर या नव संवत  या  गुड़ी पड़वा की की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनायें 

जय जय जय  हे जगदम्बे माँ 
आये    दर   तेरे   अम्बे    माँ 
पूर्ण    हो  कामनायें     सबकी 
झोलीयाँ   भरे   जगदम्बे  माँ 


सभी मित्रों को ''नवरात्री की हार्दिक शुभकामनाएँ

Saturday, 21 March 2015

बिखरी यादें तेरी जाने कहाँ

यह खामोशियाँ और तन्हाईयाँ 
ढूँढती  है  तुम्हें यहाँ  और वहाँ 
बस  अहसास  है  तेरे  होने का 
बिखरी   यादें  तेरी  जाने  कहाँ 

रेखा जोशी 

जीवंत कर लो ज़िंदगी

मन की आँखों को
खोल कर देखों
मंडरा रही आस पास तुम्हारे
रंग बिरंगी तितलियाँ
मत बांधों तुम अपने को
सफेद काले बंधन में
हैं बिखरे
इंद्रधनुष से  रंग आस पास तुम्हारे
करते  पुलकित तन मन
रंग जीवन में
सजा लो जीवन अपना
महका लो जीवन अपना
जीवंत कर लो ज़िंदगी
भर कर
रंग जीवन में

रेखा जोशी

Friday, 20 March 2015

आ गये मस्ती भरे तराने मेरे लब पे आज


दीप कलश जगमगाने लगे मेरे घर में आज
झंकृत हो बजने लगे  तार मेरे दिल के आज
उनके आने  की खबर  सुन के छा गई  बहारे
आ गये मस्ती भरे  तराने  मेरे लब पे आज

रेखा जोशी 

लालच लोभ

लालच लोभ
दिल मांगता मोर
पाये न ठौर
.................
 हाथ से गया 
लालच बुरी बला
सोने का अंडा
…………
गोरखधंधा
भ्रष्टाचार सिखाता
लोभ का अंधा
…………
लोभ का फंडा
गिराता औंधे मुहँ
किया भरता

रेखा जोशी 

Thursday, 19 March 2015

जी रहे थे भूल उन को ज़िंदगी में


आज उनकी याद फिर से आ गई  है 
क्यों हमेँ रह रह आज तड़पा  गई  है 
जी  रहे  थे  भूल उन  को  ज़िंदगी में
बात  क्या जो फिर हमें  रुला गई  है 

रेखा जोशी 

Wednesday, 18 March 2015

टूट गया दिल हमारा

थी किसी और की
जब तुम
क्यों आई ज़िंदगी में मेरी
थी करनी
जब ज़फ़ा तुमने
बाते वफ़ा की
क्यों करती रही
रख कर
अपने दिल में गैर को
हँस  कर
क्यों मुझे रिझाती रही
खेलती रही
क्यों  दिल से मेरे
टूट गया दिल हमारा
अब चैन से
क्यों नहीं रहने देती

रेखा जोशी

धोखा खाया हमने कर के प्यार सनम

साजन  दिल में मेरे आने वाला था 
उसका हर अंदाज़ ज़माने वाला था 
 
रह रह कर तेरी यादों ने मारा 
जानम तेरा प्यार सताने  वाला था 

दिल लूटा तुमने अपनी बातो से जब 
बातों से  जज़्बात बताने वाला था 

माना तुम प्यार हमे करते थे साजन 
अपने दिल का दर्द  सुनाने वाला था 

 धोखा खाया हमने कर के प्यार सनम 
आँखों से अब नीर बहाने वाला था 

रेखा जोशी 

सदा खुश रहना तुम ऐ दोस्त मेरे

ज़िंदगी है तो मंज़िलें और भी है
दुनिया में हसीं नज़ारे और भी है
सदा खुश रहना तुम ऐ दोस्त मेरे
जहाँ सितारों से आगे और भी है
रेखा जोशी 

उतर आया हथेली पर सूरज इधर

आसमाँ  को  छूना  चाहते थे तुम
चमकना सूरज सा चाहते  थे तुम
उतर  आया हथेली पर सूरज इधर
पा लिया वह जैसा  चाहते थे तुम
रेखा जोशी 

Tuesday, 17 March 2015

उसके आने से रोशन हुआ मेरा घर आँगन

नन्ही  परी  के आने से खत्म  हुई तन्हाईयाँ 
गुनगुनाने  लगी गीत मधुर मेरी खामोशियाँ 
उसके  आने  से रोशन  हुआ  मेरा घर आँगन 
गूँजने  लगी  घर  में मेरे उसकी किलकारियाँ 

रेखा जोशी 

बेचारा गरीब


इस महंगाई के आलम में 
बेचारा गरीब
क्या खाए और कहाँ रहे 
पेट भर भोजन नहीं 
रहने को छत नहीं 
सोच रहा बेचारा लेट कर 
सड़क किनारे 
उम्र भर यूँही जीना है उसे 
झेलने है यूँही दुःख उसे 
क्या यही है उसकी तकदीर 
याँ  फिर कुछ और …… 

रेखा जोशी 


रस्म ऐ उल्फत को निभाया दिल से हमने

प्यार की गलियों से गुज़ारना चाहिए 
वफ़ा के रंग को भी आज़माना चाहिए 
रस्म ऐ उल्फत को निभाया दिल से हमने 
हुए गैरों के तुम सिला वफ़ा का चाहिए 

रेखा जोशी 



बूँद बन नैनो से मैने गिरा दिया तुम्हे

 खो गई 
दूर कहीं कल्पनायें मेरी 
धुंधला गई 

अब यादें तेरी 
मायूस हूँ इस कदर 
नही चाहता 

अपने ख्यालों में 
अब तुम्हे 
बूँद बन नैनो से मैने 

गिरा दिया  तुम्हे 
काबिल नहीं तुम 
प्यार के 
सोच समझ कर

कर लिया विचार 
नही चाहता 
अपने जीवन में 
अब तुम्हे 

रेखा जोशी 

Monday, 16 March 2015

सोंधी महक माटी की पुकारती


चलो चलें  उस पार नदी  नाव से
आओ अब चलें हम सखी गाँव रे
सोंधी  महक  माटी  की पुकारती
पड़े  झूले  अंबुआ   की  छाँव  में

रेखा जोशी

बनाया रब ने एक दूजे लिये

तुमसे ही  जुड़ा  मेरा संसार
साथ मिला जो तेरा बार बार
बनाया रब ने एक दूजे  लिये
बदरा संग बरस रही जलधार

रेखा जोशी


कमल ही कमल

कमल नैन
शेषनाग शयन
सृष्टि उत्पन्न
………
जीवन जियें
कीचड़ में कमल
खिलता जैसे
………
खिलें भीतर
पहचान खुद को
कमल ही कमल
………
रेखा जोशी

Sunday, 15 March 2015

पल पल में फिसल रहा हाथ से यह पल

ज़िंदगी नित  नया  रूप  ले  बदल  रही 
कल आज और कल में नित ये ढल रही 
पल पल में फिसल रहा हाथ से यह पल 
सुख दुःख  की लहर पे नित ये चल रही 

रेखा जोशी 


इश्क का खुमार

सर चढ़ के बोला
फिर इश्क का खुमार
रंग में रंग गये
तुम  गैर के
भूल कर अपनों को
हुये बेगानों के आज
जिसे समझते अपना  तुम
जिससे करते तुम
इतना प्यार
संभलना तुम यार
रंग बदलते है रिश्ते भी
खाना न धोखा
लगती  बहुत गहरी चोट
पड़ती जब
इश्क की मार

रेखा जोशी





आये है आज तेरी महफ़िल में सनम

हमे यहां देख कर अब खिलता  है चाँद
पानी  की  लहरों पर   चमकता है चाँद 
आये  है आज  तेरी महफ़िल में  सनम
तारों संग नभ  पर अब  हँसता  है चाँद

रेखा जोशी 

मतलब का सारा जहां मतलब का इंसान

घूम  लिये  चाँद  सितारे घूम लिया संसार 
घूमें  सारी दुनिया  पर कहीं न पाया प्यार 
मतलब  का  सारा जहां मतलब का इंसान  
न मिला कभी चैन हमे न कहीं पाया करार

रेखा जोशी 

चोरों का देश

कितने ईमानदार है हम ?इस प्रश्न से मै दुविधा में पड़ गई ,वह इसलिए क्योकि अब ईमानदार शब्द पूर्ण तत्त्व न हो कर तुलनात्मक हो चुका है कुछ दिन पहले मेरी एक सहेली वंदना के पति का बैग आफिस से घर आते समय कहीं खो गया ,उसमे कुछ जरूरी कागज़ात ,लाइसेंस और करीब दो हजार रूपये थे ,बेचारे अपने जरूरी कागज़ात के लिए बहुत परेशान थे |दो दिन बाद उनके  घर के बाहर बाग़ में उन्हें अपना बैग दिखाई पड़ा ,उन्होंने उसे जल्दी से उठाया और खोल कर देखा तो केवल रूपये गायब थे बाकी सब कुछ यथावत उस  बैग में वैसा ही था ,उनकी नजर में चोर तुलनात्मक रूप से ईमानदार था ,रूपये गए तो गए कम से कम बाकी सब कुछ तो उन्हें मिल ही गया ,नही तो उन्हें उन कागज़ात की वजह से काफी परेशानी उठानी पड़ती|

वह दिन दूर नही जब हमारा देश चोरों का देश बन कर रह जाए गा ,कोई छोटा चोर तो कोई बड़ा चोर ,कोई अधिक ईमानदार तो कोई कम ईमानदार ,लेकिन अभी भी हमारे भारत में ईमानदारी पूरी तरह मरी नही ,आज भी समाज में ऐसे लोगों की कमी नही है जिसके दम पर सच्चाई टिकी हुई है | वंदना अपनी नन्ही सी बेटी रीमा की ऊँगली थामे जब बाज़ार जा रही थी तभी उसे रास्ते में चलते चलते एक रूपये का सिक्का जमीन पर पड़ा हुआ मिल गया,उसकी बेटी रीमा ने  झट से उसे उठा कर ख़ुशी से उछलते हुए  वंदना से कहा ,''अहा,मम्मी मै तो इस रूपये से टाफी लूंगी,आज तो मज़ा ही आ गया ''| अपनी बेटी के हाथ में सिक्का देख वंदना उसे समझाते हुए बोली  ,''लेकिन बेटा यह सिक्का तो तुम्हारा नही है,किसी का इस रास्ते पर चलते हुए गिर गया होगा  ,ऐसा करते है हम  मंदिर चलते है और इसे भगवान जी के चरणों में चढ़ा देते है ,यही ठीक रहे गा ,है न मेरी प्यारी बिटिया 

|''वंदना ने अपनी बेटी को  ईमानदारी का पाठ तो पढ़ा दिया लेकिन आज अनेक घोटालों के पर्दाफाश हो रहे इस देश में ईमानदारी और नैतिकता जैसे शब्द खोखले,  निरर्थक और अर्थहीन हो चुके है,एक तरफ तो हम अपने बच्चों से  ईमानदारी ,सदाचार और नैतिक मूल्यों की बाते करते है और दूसरी तरफ जब उन्हें समाज में पनप रही अनैतिकता और भ्रष्टाचार का सामना करना पड़ता है तब  हमारे बच्चे ,इस देश के भविष्य निर्माता टूट कर बिखर जाते है ,अपने परिवार  से मिले आदर्श संस्कार उन्हें अपनी ही जिंदगी में आगे बढ़ कर समाज एवं राष्ट्र हित के लिए कार्य करने में मुश्किलें पैदा कर देते है ,उनकी अंतरात्मा उन्हें बेईमानी और अनैतिकता के रास्ते पर चलने नही देती और घूसखोरी ,भ्रष्टाचार जैसे भयानक राक्षस मुहं फाड़े  इस देश के भविष्य का निर्माण करने वाले नौजवानों को या तो निगल जाते है या उनके रास्ते में अवरोध पैदा कर  उनकी और देश की प्रगति पर रोक लगा देते है ,कुछ लोग इन बुराइयों के साथ समझौता कर ऐसे भ्रष्ट समाज का एक हिस्सा बन कर रह जाते है और जो लोग समझौता नही कर पाते वह सारी जिंदगी घुट घुट कर जीते है | 

रीमा की ही एक सहेली के भाई ने सिविल इंजिनीयरिंग की डिग्री प्राप्त कर बहुत उत्साह से कुछ कर दिखाने का जनून लिए पूरी लग्न और निष्ठां से  एक सरकारी कार्यालय में नौकरी से अपनी नई जिंदगी की शुरुआत की ,लेकिन उसकी वही निष्ठां और लग्न सरकारी कार्यालयों के  भ्रष्ट तंत्र में उसकी एक स्थान से दूसरे स्थान पर हो रही तबादलों का कारण बन गई ,उसे एक जगह पर टिक कर कुछ करने का मौका ही नही मिल पाया और आज यह हाल है की बेचारा अवसाद की स्थिति में पहुंच चुका  है |एक होनहार युवक का अपने माँ बाप दुवारा दी गई नैतिकता और ईमानदारी की शिक्षा के कारण उसका ऐसे भ्रष्ट वातावरण में  दम घुट गया |यह केवल एक युवक का किस्सा नही है ,हमारे देश में हजारों , लाखों युवक और युवतिया बेईमानी ,अनैतिकता ,घूसखोरी के चलते क्रुद्ध ,दुखी और अवसादग्रस्त हो रहे है ,लेकिन क्या नैतिकता के रास्ते पर चल ईमानदारी से जीवन यापन करना पाप है ?,याँ फिर हम इंतज़ार करें उस दिन का जब सच्चाई की राह पर चलने वाले इस भ्रष्ट वातावरण के चलते हमेशा हमेशा  के लिए खामोश हो जाएँ और यह  देश चोरों का देश कहलाने लगे|

  रेखा जोशी

Saturday, 14 March 2015

थाम लेता अंत में मौत का हाथ

धरती से सोना उगाता
धरतीपुत्र कहलाता
भर कर पेट सबका
खुद भूखा सो जाता
फिर भी नहीं घबराता
देख फसल खड़ी खलिहान में
मन ही मन हर्षाता
लेकिन नही सह पाता
प्रकृति और क़र्ज़ की मार 
मन ही मन टूट जाता 
गरीबी और सूखे से होता 
दुखी लाचार 
आखिर
थक हार कर जीवन से
असहाय वह छोड़ कर
सबका साथ
थाम लेता अंत में 
मौत का हाथ


रेखा जोशी

रखा दिल में बसा के हमने प्यार को हमारे

मिले  गम  ही गम हमें जाने  के  बाद तुम्हारे 
रखा दिल  में  बसा  के  हमने प्यार को हमारे 
छुपा के हर गम को अपनी मुस्कुराहट में अब 
हम  तो   जिये  जा  रहे  तेरी  याद  के  सहारे
रेखा जोशी 

Thursday, 12 March 2015

ज़िंदगी प्यार पर मिटे साजन

फूल सा तुम इधर बिखर जाना 
प्यार का  तुम गुलाब महकाना 
ज़िंदगी  प्यार पर मिटे  साजन 
हो  शमा  पर निसार   परवाना 

रेखा जोशी 

चलती रहती है ज़िंदगी उम्मीद की चादर लिये

गुज़र जाता है वक्त
छोड़ पीछे
लगाने को  डुबकियाँ
अनगिनत यादों के
सागर में
.
यादें जो
पलक बंद करते ही
तैरती है नैनों में
उठती है टीस  कभी
और
भर जाते है नैन कभी
मुस्कुरा उठते है लब कभी
और
खिल उठता है मन
जब भर जाते है रंग ख़ुशी के
जीवन की
गागर में
.
वक्त के आंचल तले
भर जाते है गम के लम्हे
बिसरा  कर सब
चलती रहती है ज़िंदगी
उम्मीद की
चादर लिये
रेखा जोशी



जो जैसा करे गा ,वह वैसा ही भरे गा


मत  कर  अभिमान  बंदे दुनिया ये  छलावा
चार दिन की ज़िंदगी फिर क्यों करे दिखावा
जो   जैसा  करे   गा  ,वह   वैसा  ही  भरे  गा
पाये   कर्मो  का   फल  काहे   करे  पछतावा

रेखा जोशी

Wednesday, 11 March 2015

ज़िंदगी चार दिन

है बदलती
धूप और छाँव भी
रंगीं ज़िंदगी
………
ख़ुशी से रहो
ज़िंदगी चार दिन
जियो जीने दो
………
है साथ साथ
ज़िंदगी और मौत
प्रभु के हाथ
.
रेखा जोशी 

महका दो फिर से मेरा अंगना इक बार

महकती महकाती
सुरभि सुमन सी
फ़िज़ाओं में अपने
रंग बिखेरती
लहराती बलखाती
पवन के
हौले हौले झोंको सी
मधुरस घोलती
मेरे जीवन में
आती हो जब तुम
झंकृत हो उठते
दिल के तार
आ जाओ फिर से
निकल तस्वीर से
महका दो फिर से
मेरा अंगना
इक बार

रेखा जोशी

Tuesday, 10 March 2015

बिखरने लगी अरुण की सुनहरी रश्मियाँ

आओ  हम  भोर  से  संदेश नया नित लें
चहचहा   रहे पंछी   उड़ते   नील  नभ  पे
बिखरने लगी अरुण की सुनहरी रश्मियाँ
तेजस्वी लालिमा   बाहों  में आज  भर लें

रेखा जोशी 

पास आओ तुम कभी तो हमसफ़र


दिल हमारा अब बहलने से रहा 
चाँद आँगन में उतरने से रहा 
रात  साजन नींद में अब सो  गई 
थाम दामन भोर चलने से रहा 

चाह तेरी इस कदर रुला गई 
नीर   नैनों  का बहने  से रहा 

पास आओ तुम  कभी तो  हमसफ़र 
वक्त तो अब यह बदलने  से रहा 

साथ तेरा तो निभाया ज़िंदगी 
साथ तेरे आज  चलने से रहा 

रेखा जोशी 

मन में विश्वास और साहस को वह थामे हुये


अपनी धुन में पथिक दुर्गम पथ पर  चल रहा था 
ऊँची   नीची  काँटों   भरी  राह   पर  बढ़  रहा था 
मन  में  विश्वास  और  साहस  को  वह थामे हुये 
शनै  शनै  मंजिल  की  ओर वह  डग भर रहा था 

रेखा  जोशी