Wednesday, 29 June 2016

उत्सव ज़िंदगी का मनायें हम और तुम

हाथो में हाथ लिये गायें  हम और तुम
उत्सव ज़िंदगी का मनायें हम और तुम
कितने सावन बिताये जीवन में हमने
हरेक पल अब साथ निभायें हम और तुम

रेखा जोशी