Sunday, 11 September 2016

आवन जावन ख़ुशी गम जीवन में

हम   इक   दूजे  के  ही  सहारे  है 
समय  की  बहती  धार   पुकारे है 
आवन जावन  ख़ुशी गम जीवन में 
सुख दुःख  तो यहाँ  दो किनारे है 

रेखा जोशी