Thursday, 27 October 2016

सजन इज़हार पढ़ लेना

छंद- विजात
समान्त – आर
पदांत – पढ़ लेना
1222  1222

सजन इकरार कर लेना
हमारा प्यार पढ़ लेना
,,
खिला उपवन रँगी मौसम
सजन इज़हार पढ़ लेना
,,
निगाहों में समाये तुम
हमें दिलदार पढ़ लेना
,,
बहारें राह में आई
नज़ारे यार पढ़ लेना

पुकारते सजन तुम को 
जिगर के पार पढ़ लेना

रेखा जोशी