Monday, 29 February 2016

मुक्तामणि छंद

मूल छंद
दिल में  पाले साँप है ,मुख पर प्यार जताते 
घोले जीवन ज़हर है समझ नहीं हम पाते । 
रक्षा भगवान तुम करो ,नाग बहुत ज़हरीले 
काटे यह किस मोड़ पर, इनके बोल सुरीले 

 मुक्तक 
दिल में  पाले साँप है ,मुख पर प्यार जताते 
घोले जीवन ज़हर है समझ नहीं हम पाते । 
रक्षा भगवान तुम करो ,बैठे फन फैला कर
काटे यह किस मोड़ पर,कब यह घात लगाते 

रेखा जोशी 

Sunday, 28 February 2016

सपनों में सजे मेरे ज़िंदगी अरमान

महक उठा आज फिर सतरंगी  आसमान
भर ली सपनो  ने  आज फिर  ऊँची उड़ान
चाँद  सितारों को  लेकर  आया  ज़मीं  पर
 सपनों  में    सजे  मेरे   ज़िंदगी  अरमान

 रेखा जोशी

इक दिन उठेगा तेरा दाना पानी

कुछ नहीं मिलता किसी को तकरार से
जी दो  दिन  की  ज़िंदगी यहाँ प्यार से
इक   दिन   उठेगा  तेरा    दाना   पानी
चला   जायेगा   छोड़  सब    संसार से

रेखा जोशी

Saturday, 27 February 2016

ज़िंदगी जीने की कला

राम चरित मानस और महाभारत हमारे धर्म के दो  ऐसे महान ग्रन्थ है जिनसे हम  बहुत कुछ सीख सकते है | राम चरित मानस में जहाँ  भगवान श्री राम के आदर्श चरित्र को पूजा जाता है वहाँ महाभारत में योगेश्वर श्री कृष्ण के चरित्र के भिन्न भिन्न स्वरूप दर्शाये गये हैं । यहाँ मै चर्चा   करुँगी ,महाज्ञानी ,महापंडित रावण की ,हर वर्ष हम सब दशहरे को उसका पुतला जला के बुराई पर अच्छाई की  जीत का उत्सव मनाते है ,अगर हम देखें तो उस बुराई की जड़ को पानी तो लक्ष्मण ने दिया था ,श्रूपनखा की नाक काट कर ,अपमानित व्यक्ति अपने अपमान को कैसे सहन कर  सकता है । वैसे ही महाभारत में द्रौपदी ने दुर्योद्धन को अन्धे  का बेटा  अन्धा कह कर उसका  अपमान किया था ,इन दोनों प्रसंगों से हम सब को  भी सीख  लेनी चाहिए। अगर हम इन दोनों ग्रन्थों का  गहन अध्ययन करते है तो हमें बहुत से उदहारण मिलेंगे  जिनसे हम ज़िंदगी जीने की कला सीख सकते है।

रेखा जोशी


Friday, 26 February 2016

रेखा भाग्य की खुद अपनी लिख कर

जीवन  में   सही  पीर हमने अपनी
मिटा हाथ  की लकीर  हमने अपनी
रेखा  भाग्य की खुद अपनी लिख कर
है   सँवारी   तकदीर    हमने  अपनी

रेखा जोशी



न करो तुम पाप कन्या भ्रूण हत्या कर

है    माँ    दुर्गा   का   अवतार   बेटियाँ
है   माँ   बाप   से   करें   प्यार  बेटियाँ
न करो तुम पाप कन्या भ्रूण हत्या कर
माँगे   जीने    का    अधिकार   बेटियाँ

रेखा जोशी 

Thursday, 25 February 2016

World of dreams.[One of my published post ]


We live in present. Past is gone in the world of dreams and our dreams to be fulfilled lies in the lap of future. Our brain is always thinking one or the other thing when we are awake and in the state of sleep it takes us to the world of dreams. As said by the psychologists dreams are nothing but our unfulfilled desires and that to in abstract and complex form. It is observed by many of us that there are some significant dreams which have a great impact on our lives. The formula of benzene was seen by a scientist kekuly in the form of a hexagon ring of six snakes with tail of one in the mouth another in his dream. There are a number of examples where the dreams of many persons came true Is it the power of human brain to peep into the future? It is a known fact that our brain emits waves which can be measured by an instrument and the mapping of such waves is known as EEG which measures the frequency of brain waves. For the normal functioning of brain the frequency of waves is fourteen cycles per seconds which is reduced to seven cycles per second when we are asleep, the state of brain when we dream, where the rapid eye movement takes place. The deeper we are in sleep, the lesser is the frequency and the more relaxed a person is. The most important phase is that where the rapid eye movement takes place. It is observed that by meditation we can relax our mind achieve the phase of REM while we are awake and dream of whatsoever we want in our life, we will get success in that Such is the power of our brain, which can create our own future. So relax, think positive, dream your future and get success in your life..

Rekha joshi 

Wednesday, 24 February 2016

दो पाटों में जीवन


बना कर रख संतुलन
कहीं वन कहीं उपवन
कभी  धूप  कभी छाँव
दो   पाटों   में  जीवन

रेखा जोशी 

स्फुरित हुआ तन मन उषा ने ली अँगड़ाईं

स्वर्णिम   हुई  अवनी   सुहानी   भोर  आई
चहुँ ओर पुष्पित उपवन ने महक  बिखराई
अरुण  की  लालिमा  से  जगमगाया  अंबर
स्फुरित  हुआ  तन मन उषा ने ली  अँगड़ाईं

रेखा जोशी 

Tuesday, 23 February 2016

किन राहों पर भटक रहे नादान


चले  अपने  घर से करने सवेरा
आतंकियों  के  संग  लाया  डेरा
किन राहों पर भटक रहे नादान
छाया वहाँ  पर अन्धकार घनेरा

रेखा जोशी


कलम की धार

ऐसा कहते है कि जहाँ माँ सरस्वती का वास होता है वहाँ माता लक्ष्मीजी का पदार्पण नही होता ,माँ शारदे का पुजारी लेखक ,नई नई रचनाओं का सृजन करने वाला ,समाज को आईना दिखा उसमे निरंतर बदलाव लाने की कोशिश में रत ,ज़िन्दगी भर आर्थिक कठिनाइयों से झूझता रहता है |

अभी हाल ही की बात है मेरे एक लेखक मित्र के घर कन्या ने जन्म लिया और उन दिनों वह घोर आर्थिक स्थिति से गुज़र रहे थे ,उस वक्त उन्होंने चाय और पकौड़े बेच कर अपना और अपने परिवार का पोषण किया । एक लेखक के समक्ष आर्थिक संकट एक बहुत बड़ी चुनौती के रूप में सदा उसके आस पास मंडराता रहता है जिससे बाहर आना उसके लिए कभी भी संभव नही हो पाता और वह सारी ज़िंदगी अपनी मूलभूत आवश्यकताओं को पूरा करने में ही जुटा रहता है| 

आर्थिक संकट के साथ साथ आये दिन उसे कई अन्य चुनौतियों का भी सामना करना पड़ता रहता है खुदा न खास्ता अगर उसने व्यंग में ही किसी नेता याँ राजनेता के बारे में अपने आलोचनात्मक विचार प्रकट कर दिए तो उसे उनकी नाराज़गी का भी शिकार होना पड़ सकता है | समाज में पनप रही अनेक कुरीतियों को लेखक याँ लेखिका अगर अपनी सृजनात्मक कलम द्वारा उन्हें उजागर कर बदलाव लाना चाहते है तो वह सीधे सीधे समाज के ठेकेदारों की आँखों की किरकिरी बन जाते है ,ऐसा ही हुआ था लेखिका तस्लीमा नसरीन के साथ ,जब उसके खिलाफ देश निकाले का फतवा तक जारी कर दिया गया था |

इसमें कोई दो राय नही कि कलम की धार तलवार से भी तेज़ होती है | रचनाकार द्वारा सृजन की गई शक्तिशाली रचना समाज एवं देश में क्रान्ति तक ला सकती है | गुरु रवीन्द्रनाथ टैगोर ,शरतचंद्र जी ,मुंशी प्रेमचंद जैसे अनेक लेखक हिंदी साहित्य में जीती जागती मिसाल है जिन्होंने समाज में अपनी लेखनी के माध्यम से जागृति पैदा की थी | समय बदला ,समाज का सवरूप बदला नये लेखकों की बाढ़ सी आ गई ,लेकिन आज भी अपनी लेखनी के जादू से रचनाकार समाज को एक धीरे धीरे अच्छी दिशा की ओर ले जाने में कामयाब हो रहा है ,भले ही इसके लिए उसे अनेक चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है |

रेखा  जोशी 

Monday, 22 February 2016

समझो माँ के दर्द को ,आँचल उसके प्यार

मेरे भाई बन्धु सुन  ,होना है तैयार 
समझो माँ के दर्द को  ,आँचल उसके  प्यार 
गोदी अपनी खिलाया आया तुमको याद 
ज्वाला सीने रही जल , सुन लो आज पुकार

रेखा जोशी 

अखण्ड भारत हमारा ,देंगे इस पर जान

भारत माता पुकारे   ,नैनो में भर नीर 
दुश्मन घर में हमारे ,हरने को है चीर 
अखण्ड भारत हमारा ,देंगे इस पर जान 
टुकड़े होने न देंगे ,कट जायेगे वीर 

रेखा जोशी 

पीजिए तो ज़िन्दगी इक जाम है

ज़िन्दगी  जीना यहाँ नाकाम है 
पीजिए तो ज़िन्दगी इक जाम है 
… 
राह में मिले  बहुत गम ज़िन्दगी 
दीजिये सुन्दर इसे अंजाम है 
.... 
देख मन की आँख से तू ज़िन्दगी  
बस रहे घट घट  यहाँ पर राम है 
… 
चाह तेरी खींच लाई है  हमें 
अब हमारा तो  यही बस  धाम है 
… 
ज़िन्दगी में प्यार से मिल कर रहें 
यह हमें प्रभु  से मिला वरदान  है 

रेखा जोशी 

है याद हमें कुर्बानी भारत के उन वीरों की


है  खून  बहाया  जवानों  ने  जहाँ  जहाँ  धरा पर
आओ नमन करें शहीदों को शीश वहाँ  नवा कर
है  याद  हमें   कुर्बानी   भारत  के उन   वीरों की
लगा दी बाजी प्राणों की नभ पर ध्वज लहरा कर

रेखा जोशी




Sunday, 21 February 2016

मन मंदिर में आन बसे तुम

रहना   सदा  साथ मेरे  तुम
समाये  हर  श्वास  मेरे तुम 
हाथ  जोड़  हम  करें  वंदना 
मन मंदिर में आन बसे तुम 

 रेखा जोशी 

Saturday, 20 February 2016

रहें महकती सदा प्रेम की राहें

प्रियतम
आओ  चलें हम
मुहब्बत की
खूबसूरत राहों पर
देखो वह
बाहें फैलाये हमे
है  बुला  रही
और हम उन पर
चलते ही  रहें निरंतर

दुनिया से दूर
खोये रहे हम
इक  दूजे में  सदा
ज़िंदगी भर
थामें इक  दूजे का हाथ
कदम से कदम मिला कर
चलते ही  रहें निरंतर

भूल कर
दुनिया के  सारे गम
बस  मै और तुम
निभाते रहें साथ
मंजिल मिले न मिले
है कोई नही  गम
बस रहें महकती सदा
प्रेम की राहें
और हम
चलते ही  रहें निरंतर

 रेखा जोशी



जिन खोज तीन पाया [मेरी पूर्व प्रकाशित रचना ]

मंदिर से निकलते ही पास वाले पार्क में लोगों की भीड़ देखी तो वहीँ रुक गई ,उत्सुकता वश मै भी भीड़ का एक हिस्सा बन कर वहां खड़ी हो गयी ,तभी चमत्कारी बाबा की जय ,चमत्कारी बाबा की जय के नारे हवा में गूंजने लगे | भगवा चोला पहने , आधा चेहरा दाढ़ी में छुपाये एक आदमी तरह तरह के जादुई करिश्में कर के लोगों को दिखा रहा था |कभी अपने हाथों में फूल ले आता तो कभी तलवार निकाल लाता,कभी उसके मुहं पर खून सा लाल रंग आ जाता तो कभी उसके हाथ लाल हो जाते| लोग अभी भी उसकी जय जयकार कर रहे थे ,भीड़ में से कुछ लोग निकल कर उस पाखंडी बाबा के पैर छू रहे थे |

मै सोचने पर मजबूर हो गयी ,कैसे एक आदमी,हाथों की सफाई से और छोटे मोटे वैज्ञानिक प्रयोगों दुवारा भोले भालेलोगों को बेवकूफ बना रहा है |तभी शुरू हो गया समस्याए सुलझाने का सिलसिला |.भीड़ में से एक औरत उठी ,बाबा के पैर छू कर अपने बेटे के केरियर के बारे में पूछने लगी |बाबा तो जैसे अन्तर्यामी हो झटपट कई उपाय बता दिए ,उसके बाद तो प्रश्नों की झड़ी सी लग गई जिसका समाधान बाबा ने चुटकियों में कर दिया |बस बहुतहो गया था ,अब एक क्षण भी रुकना मेरे लिए नागवार था ,यह पाखंडी बाबा कैसे लोगों को मूर्ख पे मूर्ख बनाये जा रहा है ,और क्यों यह लोग आँखे मूंदे उस की बातों पर विश्वास किये जा रहें है |इस धरती पर कैसे कैसे लोग रहते है ?

मै भीड़ से निकल कर बाहर को आ गई और घर की तरफ चल पड़ी ,रास्ते में सोचने लगी ,इतना विशाल और विराट, ब्रह्मांड उसमें हमारी यह धरती और उसपर रहने वाले हम सब प्राणी ,इस पूरी सृष्टि में हमारी हस्ती ही क्या है ? भानुदेव से बंधी , अपनी अपनी कक्षाओं में बाकी ग्रहों सहित यह धरा सदियों से परिक्रमा करती आ रही है और आगे भी करती रहे गी| चाँद पर कदम रखने के बाद ,दुनिया भर के वैज्ञानिक सितारों से आगे विस्तृत अन्तरिक्ष के विभिन्न पिंडों की खोज में लगे हुए है और इस धरती पर भारतवासी अन्धविश्वासो में घिरे हुए है

अचानक लाउडस्पीकर की ऊँची आवाज़ मेरे कानो में पड़ी ,देखा तो सड़क के किनारे एक पंडाल के बाहर कुछ लोग खड़े थे और पंडाल के अंदर कोई भजन गा रहा था ,”मुझमें राम तुझमें राम सबमें राम समाया ”भजन खत्म होते ही ,किसी आदमी की आवाज़ कानों में पड़ी ,”स्वामी जी जब सब के अंदर एक ही ईश्वर का अंश है तो कोई चोर ,डाकू तो कोई अमीर या गरीब क्यों होता है?मेरे कान चौकन्ने हो कर उन की बाते सुनने लगे,”बेटा ,यह सब कर्मों का खेल है ,हमारे अंदर की आवाज़ हमे बताती है ,सही और गलत के बारे में ,उसे सुना अनसुना करके हम जैसा कर्म करते है वही हमारी पहचान बन जाती है |”एक ठहरी हुई आवाज़ मेरे कानो में आई,”अगर हम कोई अच्छा कर्म करते है ,तो हमे अंदर से और अच्छा कर्म करने की प्रेरणा मिलती है उसी ऊर्जा से हम कुछ और बदिया कर्म करना चाहें गे |”

यह सुनते ही मेरी बुद्धि  के बंद दरवाज़े खुलने लगे ,पदार्थ का सूक्ष्मतर कण जिसे इलेक्ट्रोन कहते है जिसे बाँधा हुआ है अणु की नाभि ने ,वो अपनी कक्षा में नाभि के चारों ओर परिक्रमा करता रहता है| बाहर से उर्जा मिलने पर वह अपनी कक्षा छोड़ उपर की कक्षा में चला जाता है ,अधिक उर्जा मिलने पर वह एक एक कर के सारी कक्षाए पार करता हुआ मुक्त हो जाता है ,ठीक वैसे ही जब हम कोई अच्छा कर्म करते है ,हमे उर्जा मिलती है कुछ और अच्छा कर्म करने की और हम भी एक एक कर के विभिन्न कक्षाओं को पार करते हुए अंत में बंधन मुक्त हो जाते है| गीता में भी श्री कृष्ण ने हमे कर्म का ही सन्देश दिया है | गीता के इस श्लोक को याद करते हुए मै अपने घर पहुंच चुकी थी | ”कर्मण्येवाधिकारस्ते मा फलेषु कदाचन |मा कर्मफलहेतुभुर्मा ते संड्गो-स्त्वकर्मणि ||”

रेखा जोशी 

Friday, 19 February 2016

क्या हुआ जो मिला काँटों भरा जीवन हमें

जाने अनजाने  कुछ  तो ज़िंदगी कह गई
दिये जो अपनों ने   दर्द  ज़िंदगी  सह गई
क्या हुआ जो मिला काँटों भरा जीवन हमें
उलझ कर जिसमें हमारी ज़िंदगी रह गई

रेखा जोशी 

मधुरस बिखेरता आया मधुमास

आया ऋतुराज 
मौसम बहारों का 
हौले हौले बह रही
संगीतमय लहर
दे रही हिलोरे
मदमस्त बसंती पवन
झूम रहे धरा पर
पीले पीले फूल

मन में उमंग लिये
उपवन में 
मुस्कुराते हुए
गुनगुना रहे  भँवरे
लहराते धरा पर
खिलखिला रहे
पीले पीले फूल

मौसम ने ली अंगड़ाई 
छाया चहुँ ओर 
बसंती रंग 
कुहक रही कोयलिया 
अंबुआ की डाल पे
खेतों खलिहानों में  
नाच उठी सरसों 
इतरा  रहे धरा पर 
पीले पीले फूल 

मधुरस बिखेरता 
आया मधुमास 
लहराये  चुनरिया 
पिया मिलन की आस 
गोरी के आँचल तले 
शरमा रहे 
पीले पीले फूल 

रेखा जोशी 




Thursday, 18 February 2016

सिखायेंगे उन को सबक देश द्रोह जो कर रहे


कदम से कदम मिलाकर आगे वतन बढ़ायेंगे
ह्रदय  में हम सभी के प्रेम के सुमन खिलायेंगे 
सिखायेंगे  उन को सबक देश द्रोह जो कर रहे 
भाँति  भाँति के फूलों से यह उपवन सजायेंगे 

रेखा जोशी

तन्हा सिर्फ तन्हा

है संघर्ष यह जीवन 
कब गुज़रा बचपन
याद नही
आया
होश जब से
तब  से
हूँ भाग रहा
संजों रहा खुशियाँ
सब के लिए
थे अपने कुछ
कुछ थे पराये
आज निस्तेज
बिस्तर पर पड़ा 
हूँ समझ रहा 
अपनों को
और
परायों को
था कल भी
और
हूँ आज भी
संघर्षरत
तन्हा सिर्फ तन्हा

रेखा जोशी

शमा जले रात भर यहाँ पर

करो  न  बातें  हज़ार  सजना 
कभी सुनो तुम पुकार सजना 
शमा जले रात भर  यहाँ   पर 
मिला नहीं अब करार सजना 

रेखा जोशी 

Wednesday, 17 February 2016

स्वस्थ तन में बसता सदा स्वस्थ मन

है बहुत  कठिन
योग साधना
तन या मन की
संम्पूर्ण ध्यान लगा
है डूबना पड़ता
साधना में
स्वस्थ तन में
बसता सदा
स्वस्थ मन
ऐसी साधना से ही
जुड़ पाती आत्मा
परमपिता  परमात्मा से

रेखा जोशी

अनंत यात्रा पर वह निकल गया

इस जगत ने  बहुत कपट छल किया
दुनिया  छोड़   पकड़  कमंडल  लिया
छोड़   सब   मोह    माया    के  बंधन
अनंत  यात्रा   पर  वह  निकल  गया

रेखा जोशी 

है बेलगाम अभिव्यक्ति हो रही आज भारत में

वीर  सिपाही  सीमा  पर  है  करते प्राण कुर्बान
धर्म  जाति  से  ऊपर उठों  राष्ट्र बनाना महान
है बेलगाम अभिव्यक्ति हो रही आज भारत में
आओ  मिटा सब  भेदभाव रखें तिरंगे का मान

रेखा  जोशी

लाल गुलाब सा महकता रहे जीवन तुम्हारा

लाल  गुलाब  सा   महकता रहे  जीवन तुम्हारा
खुशियों  से  सदा  चहकता  रहे  जीवन तुम्हारा
जीवन   में   तुम्हारे   सदा   आती    रहें   बहारें  
प्यार  की महक से  खिलता रहे जीवन तुम्हारा

रेखा जोशी 

Tuesday, 16 February 2016

धरती हमारी गोल गोल [पूर्व प्रकाशित रचना ]

स्कूल से आते ही राजू ने अपना बस्ता खोला और लाइब्रेरी से ली हुई पुस्तक निकाल कर अपनी छोटी बहन पिंकी को बुलाया ,तभी माँ ने राजू को आवाज़ दी ,बेटा पहले कपड़े बदल कर ,हाथ मुह धो कर ना खा लो ,फिर कुछ और करना ,तभी पिंकी ने अपने भाई के हाथ में वह पुस्तक देख ली |ख़ुशी के मारे वह उछल पड़ी ,”आहा ,आज तो मजा आ जायेगा ,भैया मुझे इसकी कहानी सुनाओ गे न ”| ”हाँ पिंकी ,यह बड़ी ही मजेदार कहानी है ” ,पुस्तक वही रख कर राजू बाथरूम में चला गया |

हाथ मुह धो कर ,दोनों ने जल्दी जल्दी खाना खाया और अपने कमरे में बिस्तर पर बैठ कर पुस्तक उठाई |अपनी तीन वर्षीय ,छोटी बहन का हीरो भाई राजू उस किताब को लेकर बहुत ही उत्साहित था ”पिंकी यह कहानी हमारी धरती की है ” ,उसने जोर जोर से पढना शुरू किया ,”बात पन्द्रहवी सदी के अंत की है ,जब भारत को खोजते खोजते क्रिस्टोफर कोलम्बस अपने साथियों सहित सुमुद्री मार्ग से अमरीका महाद्वीप में ही भटक कर रह गया था |उस समय सुमुद्रीय यात्राएं बहुत सी मुसीबतों से भरी हुआ करती थी ,ऐसी ही एक ऐतिहासिक यात्रा ,सोहलवीं सदी के आरम्भ में स्पेन की सेविले नामक बंदरगाह से एक व्यापारिक जहाजी बेड़े ने प्रारंभ की |इस बेड़े की कमान मैगेलान नामक कमांडर के हाथ में थी |

राजू पिंकी को यह कहानी सुनाते सुनाते उस जहाज में पिंकी के संग सवार हो यहां वहां घूमने लगा |”मजा तो आ रहा है न पिंकी , देखो हमारे चारो ओर सुमुद्र ही सुमुद्र ,इसका पानी कैसे शोर करता हुआ हमारे जहाज से टकरा कर वापिस जा रहा है ,अहा चलो अब हम दूसरी तरफ से सुमुद्र को देखतें है ,अरे यहाँ तो बहुत सर्दी है”राजू ख़ुशी के मारे झूम रहा था | ,”हाँ भैया देखो न ,मै तो ठंड के मारे कांप रही हूँ भैया वापिस घर चलो न ,”पिंकी ठिठुरती हुई बोली | ”उस तरफ देखो ,वहां दिशासूचक लगा हुआ है, हमारा जहाज दक्षिण ध्रूव की तरफ बढ़ रहा है ,तभी तो इतनी सर्दी है यहाँ ,”राजू ने पिंकी का हाथ पकड़ लिया,”चलो हम नीचे रसोईघर में चलते है ,कुछ गर्मागर्म खाते है थोड़ी ठंड भी कम लगे गी ,”रसोईघर में पहुंचते ही राजू परेशान हो गया वहां मोटे मोटे चूहे घूम रहे थे और वहां खाने का सारा सामान खत्म हो चुका था यहाँ तक की भंडारघर भी खाली हो चुका था ,मैगेलान के सारे साथी भुखमरी के शिकार हो रहे थे ओर मैगेलान उन्हें हिम्मत देने की कोशिश कर रहा था ,राजू और पिंकी की आँखों में उन बेचारों की हालत देख कर आंसू आरहे थे ,मालूम नही और कितने दिनों तक यह भूखे रहेगे ,तभी किसी ने आ कर बताया कि कुछ दूरी पर छोटे छोटे टापू दिकाई दे रहें है । 

,मैगेलानने झट से नक्शा निकाला और यह पाया कि वह फिलिपिन्ज़ के द्वीप समूहों कि तरफ बढ़ रहे है यह समाचार सुनते ही पूरे जहाज में ख़ुशी की लहरें उठने लगी ,सब लोग जश्न मनाने लगे ,लेकिन वहां पहुंचते ही वहां के रहने वाले आदिवासियों ने उन सब को घेर लिया और उनके कई साथियों को मार गिराया |मरने वालो में उनका नेता मैगेलान भी शामिल था ,बचे खुचे लोग बड़ी मुश्किल से अपनी जान बचा कर ,अपने एक मात्र बचे हुए जहाज विक्टोरिया में बैठ ,एक बार फिर से सुमुद्र के सीने को चीर अपनी यात्रा पर निकल पड़े |लगभग तीन वर्ष बाद वह जहाज अपनी ऐतिहासिक यात्रा पूरी कर उसी बन्दरगाह पर पहुंचा जहां से वह यात्रा प्रारम्भ हुई थी | धरती हमारी गोल गोल ,यह कहते हुए राजू नींद से जाग गया और पिंकी उसे जोर जोर से हिला रही थी ,”भैया पूरी कहानी तो सुनाओ ,आगे क्या हुआ ? , मेरी प्यारी बहना पहली बार इस अमर यात्रा ने प्रमाणित कर दिखाया कि हमारी धरती गोल है |

रेखा जोशी 

ह्रदय में विश्वास और आशा के साथ साथ

अपनी धुन में पथिक दुर्गम पथ पर  चल रहा 
ऊँची   नीची  काँटों   की   राह   पर  बढ़  रहा 
ह्रदय  में  विश्वास  और आशा के  साथ साथ 
शनै  शनै  मंजिल  की  ओर वह  डग भर रहा 

रेखा  जोशी 

जहाँ मुहब्बत के कदम का निशान पाया

तुम्हे  पा   कर  हमने   सारा  जहान पाया
हैं  मिल  गये  पँख  हमने  आसमान पाया
आँखें     मूँदे     चले     तेरे      पीछे   पीछे
जहाँ मुहब्बत के  कदम का निशान  पाया

रेखा जोशी 

Monday, 15 February 2016

खूब निभाई यारी पीठ पर खंजर घोंप कर

माना  दोस्त  तुम्हे  हमने   जाने  क्या  सोच  कर
क्यों  मिले  गले  तुम जीवन की  राह  में रोक कर
देख ली  दुश्मनी  तुम्हारी    दोस्ती   की   आड़   में  
खूब   निभाई   यारी   पीठ   पर  खंजर   घोंप कर

रेखा जोशी


जल कर आग में सब तो राख हो गया

सुलगती चिता सा यह दिल  सुलगता क्यों 
सब  खत्म  होने के बाद  फिर धुआँ क्यों
जल  कर आग में सब  तो राख  हो गया 
फिर  सीने  में  धधकती  यह ज्वाला क्यों 

रेखा जोशी 

बयार चलती मस्त साँस में घुलती जाये


छंद 
बयार  चलती  मस्त साँस में घुलती जाये
धड़के मोरा जिया , आज घर साजन  आये 
खिलते बगिया सुमन छटा अब उपवन  छाई
अँगना आये पिया  ख़ुशी घर  मोरे  आई 

मुक्तक 
बयार  चलती  मस्त साँस में घुलती जाये
धड़के मोरा जिया , आज घर साजन  आये 
खिलते बगिया सुमन छटा अब उपवन  छाई 
अँगना आये पिया  संग वो खुशियाँ लाये 

रेखा जोशी 

Sunday, 14 February 2016

आया बसंत आँगन में चले मस्त बयार

आया  बसंत  आँगन  में  चले  मस्त  बयार 
मिलजुल  कर रहना सीखें  सबसे करें प्यार 
खिलता तन मन आज उड़ती चुनरिया पीली 
है  पीली   पीली  सरसों    खेत   में  उसपार

रेखा जोशी 

''लव यू पापा'' [पूर्व प्रकाशित रचना ]

उस दिन माँ बाप की ख़ुशी सातवें आसमान पर होती है ,जिस दिन उनके परिवार में एक नन्हें से बच्चे का आगमन होता है ,जैसे किसी ने उनकी गोद में दुनिया भर की खुशियाँ बिखेर दी हो |राजीव और गीता का भी यही हाल था आज ,गीता की गोद में अपना ही नन्हा सा रूप देख राजीव चहक उठा ”देखो गीता इसके हाथ कितने छोटे है”यह कहते ही राजीव ने अपनी उंगली उस नन्हे से हाथ पर रख दी ,अरे अरे यह क्या, देखो इसने तो मेरो ऊँगली ही पकड़ ली |ख़ुशी के मारे राजीव के पाँव धरती पर टिक ही नहीं पा रहे थे ,यही हाल गीता का था ,इतनी पीड़ा सहने के बाद भी गीता की आँखों की चमक देखते ही बनती थी ,बस टकटकी लगाये उस नन्ही सी जान को मुस्कुराते हुए देखती ही जा रही थी| राजीव उसे गोद में उठाते हुए बोला , ”यह तो हमारा सचिन है ,बड़ा हो कर यह भी सचिन की तरह छक्के मारेगा ”|

अनेक सपने राजीव की आँखों में तैरने लगे ,अपने इन्ही सपनो को पूरा करने की चाह लिए हुए कब उनके बेटे सचिन ने अपनी जिदगी के पन्द्रहवें वर्ष में कदम रख लिया,इसका राजीव और गीता को अहसास ही नहीं हुआ ,उनकी आँखों का तारा सचिन उनकी नजर में अभी भी एक छोटा सा बच्चा ही था ,लेकिन सचिन तो अब किशोरावस्था में पदार्पण कर चुका था, घंटों अपने चेहरे को शीशे में निहारना,कभी बालों को बढ़ा लेता ,तो कभी दाढ़ी को ,अपने को किसी हीरो से कम नही समझता था वो ,सारी की सारी दुनिया अपनी जेब में लिए घूमता था |उसमे आये शारीरिक परिवर्तन और उसके मानसिक विकास ने उसे जिन्दगी के कई अनदेखी राहों के रास्ते दिखाने शुरू कर दिए |

 राजीव और गीता दोनों पढ़े लिखे थे ,वह सचिन को आज की इस दुनिया में क्या सही ,और क्या गलत है ,जब भी बताने या समझाने की कोशिश करते तो सचिन या तो बहस करता या मजाक में टाल देता ,वैसे बहस करना उसकी आदत सी बनती जा रही थी |गीता भी रोज़ की इस चिक चिक से परेशान सी रहने लगी ,फिर सोचती ,”यह उम्र ही ऐसी है ,बच्चों की किशोरावस्था के इस नाज़ुक दौर के चलते अभिभावकों के लिए यह उनके धैर्य एवं समझदारी की परीक्षा की घड़ी है |किशोरों के शरीर में हो रही हार्मोंज़ की उथल पुथल जहां उन्हें व्यस्क के रूप में नवजीवन प्रदान करने जा रही है ,वही उनका बचकाना व्यवहार ,उन्हें स्वयं की और माँ बाप की नजर में अजनबी सा बना देता है |माँ बाप से उनका अहम टकराने लगता है ,हर छोटी सी बात पर अपनी प्रतिक्रिया देना ,उनकी आदत में शामिल हो जाता है |किशोरों को इस असमंजस की स्थिति से माँ बाप अपने विवेक और धेर्य से ही बाहर निकालने में मदद कर सकते है ,उनकी हर छोटी बड़ी बात को महत्व दे कर ,उनका मित्रवत व्यवहार अपने लाडले बच्चों को जहां गुमराह होने से बचाते है वहीँ उनमे विश्वास  कर के उन्हें एक अच्छा नागरिक बनने में भी सहायता भी करते है ”|

राजीव और गीता किशोरावस्था की इन सब समस्याओं से अनजान नहीं थे लेकिन फिर क्यों नहीं उन्हें सचिन का विशवास ,और प्यार जिसकी वह उससे उम्मीद करते थे ,नहीं मिल पा रहा था |अचानक राजीव के मोबाईल फोन की घंटी बजी ,,”पापा जल्दी रेलवे प्लेट्फार्म पर आ जाओ ,”|राजीव जल्दी से कार में बैठ सचिन पास पहुंच गया ,यह क्या ,उसका सचिन रेलवे प्लेटफार्म पर रेलवे पुलिस के इंस्पेक्टर के साथ खड़ा था |सचिन क्या बात है ?राजीव ने हैरानी से पूछा |जवाब मिला पुलिस इंस्पेक्टर से ,”बदतमीजी की है इसने ,गाली दी है एक बुज़ुर्ग रेलवे कर्मचारी को ,सचिन के चेहरे का रंग उड़ा हुआ था |राजीव ने प्यार से सचिन के काँधे पर हाथ रखा और सचिन से माफ़ी मांगने को कहा,उसे भी अपनी गलती का अहसास हो रहा था ,सचिन ने उस बुजुर्ग के पाँव छू क़र माफ़ी मांगी ,उस बुजुर्ग कर्मचारी ने उसे माफ़ करते हुए समझाया कि जिंदगी में जो काम हम प्यार के करवा सकते है वह अकड़ से नहीं |सारा मामला सुलझा क़र राजीव सचिन को घर ले आया ,माँ का चेहरा देखते ही सचिन की आँखों में आंसू आ गये ,माँ ने उसका हाथ थाम लिया ,इतने में राजीव भी उनके पास आ गया और सचिन उससे लिपट गया ,भर्राई आवाज़ से उसने कहा,''लव यू पापा''

रेखा जोशी 

Saturday, 13 February 2016

अब करें पुष्प अर्पित विधा गीतिका


गीतिका

रस  भरे गीत गाती विधा गीतिका
मन लुभाती सुशोभित विधा गीतिका
...
साज़  बिखरा  रहे धुन सुरीली यहाँ 
तान यह छेड़ हर्षित विधा गीतिका
.... 
शीश मंदिर झुका कर करें हम नमन 
अब  करें  पुष्प अर्पित विधा गीतिका
... 
हर्ष मन में भरे अंग  पुलकित ह्रदय 
दे खुशियाँ प्रफुल्लित विधा गीतिका
... 
सुर सुरीले बजें तार दिल के बजे 
गीत संगीत मोहित विधा गीतिका

रेखा जोशी 

Friday, 12 February 2016

छीना उस वीर को बर्फीले पहाड़ों ने हमसे


रख  हथेली  पर  प्राण  सिपाही तैनात सीमा पर 
अपने देश की खातिर वह  हुआ शहीद  सीमा पर 
छीना  उस  वीर  को  बर्फीले  पहाड़ों   ने  हमसे 
अपने घर  से बहुत दूर मर मिटा वीर  सीमा पर 

 रेखा जोशी 

चाहते अपनी रही यहाँ अधूरी

बहुत मिला जीवन में फिर भी कम  है
नही   हमे   इसका   भी   कोई  गम है
चाहते   अपनी     रही    यहाँ    अधूरी   
इन्हें   करें   पूरा   अपने   में   दम   है 

रेखा जोशी

मुस्कुराती रहेगी ज़िंदगी बार बार

है डूब रहा  
सूरज 
ढल रही शाम 
हुआ सिंदूरी आसमान 
ऐसी चली हवा
ले उड़ी संग अपने 
पत्ता पत्ता
छोड़ अपना अस्तिव
टूट कर बिखर गये  
चले गये सब जाने कहाँ 
देख रहा खड़ा अकेला 
असहाय सा पेड़
सूनी सूनी  शाखायें 
कर रही इंतज़ार 
नव बहार का
होगा फिर फुटाव
नव कोपलों का
होंगी हरी भरी 
डालियाँ फिर से
उन पर 
खिलेंगे फूल फिर से 
आयेँगी बहारें फिर से 
होगी नव भोर फिर से 
उड़ेंगे 
नीले अम्बर पर पंछी फिर से 
सात घोड़ों से 
सजेगा रथ दिवाकर का 
नाचेंगी अरूण की रश्मियाँ 
मुस्कुराती रहेगी ज़िंदगी 
बार बार 


रेखा जोशी 



Thursday, 11 February 2016

सभी मित्रों को बसंतपंचमी की हार्दिक शुभकामनाये


करे राधा पुकार 
संग सखियाँ हज़ार 
मनमोहन बजा  दे 
तू बंसी इक बार 

सभी मित्रों को बसंतपंचमी की हार्दिक शुभकामनाये

रेखा जोशी 

सदा खुश रहो साजन ज़िंदगी के हर मोड़ पर

न चाहते हुए भी हमे उनसे प्यार हो गया 
लब खुले भी नही आँखों से इज़हार हो गया 
...
खुदा बचाये इस नामुराद मुहब्बत से हमे
न जाने कैसे दिल फिर इसका शिकार हो गया

... 
हमने तो चाहा उन को सदा दिल औ जान से 
न जाने क्यों उनसे हमारा तकरार हो गया 
... 
देते रहे हम को साजन   धोखे ज़िंदगी भर 
न जाने हमें क्यों एतबार बार बार हो गया 
... 
सदा खुश रहो साजन ज़िंदगी के हर मोड़ पर 
जीवन में हमारे तो अब अन्धकार हो गया 

रेखा जोशी 

Wednesday, 10 February 2016

राधा का मनमोहन गोपियों का भी दुलारा

देवकीनंदन कृष्ण कन्हैया सभी का प्यारा
राधा  का मनमोहन गोपियों का भी दुलारा 
नाम तेरे से पिया विष का प्याला मीरा ने
ममतामयी यशोदा की वह आँखों का तारा 

रेखा जोशी 

फूलों सी अँगना में महकती बेटियाँ

बाबुल के अँगना में चहकती बेटियाँ
फूलों सी अँगना  में  महकती बेटियाँ
है  बाँटती  वह खुशियाँ  दोनों घरों में
माँ बाप के प्यार से निखरती बेटियाँ

रेखा जोशी 

कब तक सहेंगे यह दर्द ए दिल हम

शमा पर  मिटता  परवाना क्यों  है
दर्द  से  यह  रिश्ता  पुराना  क्यों है
कब तक सहेंगे यह दर्द ए दिल हम
न   जाने   बेदर्द   ज़माना  क्यों   है

रेखा जोशी 

Tuesday, 9 February 2016

रँग लिये तितलियों ने पँख अपने

है पुष्प  से  चुराये   रँग   अपने
रँग  लिये तितलियों  ने पँख अपने
चलने लगी मस्त  पवन बसंती
ले  उड़ी  पराग कण संग अपने

रेखा जोशी 

आन बान औ शान तिरंगे का रखने को तैयार है

रख  हथेली  पर  प्राण  सिपाही मरने को तैयार है 
अपने देश की खातिर वह  मर मिटने को तैयार है 
अपने माँ बाप बीवी बच्चों से बहुत  दूर सीमा पर 
आन बान औ शान  तिरंगे का रखने को तैयार है 

रेखा जोशी

फूल उपवन में खिलने लगे मधुमास के आते ही

सपने  मेरे  महकने  लगे  मधुमास  के  आते ही 
फूल उपवन में खिलने लगे मधुमास के आते ही 
गुनगुनाने लगी हवायें  झूम उठी   फ़िज़ाये  यहाँ 
तार दिल  के भी बजने लगे मधुमास के आते ही 

रेखा जोशी 

Monday, 8 February 2016

मुस्कुराती बहारें खिली अब यहाँ

.प्यार की महक छाने लगी अब यहाँ 
गुनगुनाती खुशियाँ  मिली अब यहाँ  
.... 
हाथ थामें पिया का चले  जा रहे 
रात बगिया रही महकती अब यहाँ 
.... 
ज़िंदगी गा रही प्यार के गीत अब 
मुस्कुराती बहारें खिली  अब  यहाँ 
..... 
दीप अब जगमगाने लगे इस राह 
आज  रोशन हुई ज़िंदगी अब यहाँ 
.... 
 छोड़ कर आज दामन न जाना सजन 
प्यार में ज़िंदगी बहकती अब यहाँ  

रेखा जोशी 

Sunday, 7 February 2016

टूटते आईने से बिखरते रिश्ते


जीवन   की डोर  से  होते   बँधे   रिश्ते
जीवन  में  निभाये  सच्चे  झूठे  रिश्ते
न समझा कोई भी इन रिश्तों का मोल
टूटते    आईने    से    बिखरते   रिश्ते

रेखा जोशी

Saturday, 6 February 2016

मन ही देवता मन ही ईश्वर

मन ही देवता मन ही ईश्वर 

मन ,जी हाँ मन ,एक स्थान पर टिकता ही नही पल में यहाँ तो अगले ही पल न जाने कितनी दूर पहुंच जाता है ,हर वक्त भिन्न भिन्न विचारों की उथल पुथल में उलझा रहता है ,भटकता रहता है यहाँ से वहाँ और न जाने कहाँ कहाँ ,यह विचार ही तो है जो पहले मनुष्य के मन में उठते है फिर उसे ले जाते है कर्मक्षेत्र की ओर । जो भी मानव सोचता है उसके अनुरूप ही कर्म करता है ,तभी तो कहते है अपनी सोच सदा सकारात्मक रखो ,जी हां ,हमें मन में उठ रहे अपने विचारों को देखना आना चाहिए ,कौन से विचार मन में आ रहे है और हमे वह किस दिशा की ओर ले जा रहे है ,कहते है मन जीते जग जीत ,मन के हारे हार ,यह मन ही तो है जो आपको ज़िंदगी में सफल और असफल बनाता है ।

ज़िंदगी का दूसरा नाम संघर्ष है ,हर किसी की ज़िंदगी में उतार चढ़ाव आते रहते है लेकिन जब परेशानियों से इंसान घिर जाता है तब कई बार वह हिम्मत हार जाता है ,उसके मन का विश्वास डगमगा जाता है और घबरा कर वह सहारा ढूँढने लगता है ,ऐसा ही कुछ हुआ था सुमित के साथ जब अपने व्यापार में ईमानदारी की राह पर चलने से उसे मुहं की खानी पड़ी ,ज़िंदगी में सफलता की सीढ़ियाँ चढ़ने की जगह वह नीचे लुढ़कने लगा ,व्यापार में उसका सारा रुपया डूब गया ,ऐसी स्थिति में उसकी बुद्धि ने भी सोचना छोड़ दिया ,वह भूल गया कि कोई उसका फायदा भी उठा सकता ,खुद पर विश्वास न करते हुए ज्योतिषों और तांत्रिकों के जाल में फंस गया ।

जब किसी का मन कमज़ोर होता है वह तभी सहारा तलाशता है ,वह अपने मन की शक्ति को नही पहचान पाता और भटक जाता है अंधविश्वास की गलियों में । ऐसा भी देखा गया है जब हम कोई अंगूठी पहनते है याँ ईश्वर की प्रार्थना ,पूजा अर्चना करते है तब ऐसा लगता है जैसे हमारे ऊपर उसका सकारात्मक प्रभाव पड़ रहा है लेकिन यह हमारे अपने मन का ही विश्वास होता है । मन ही देवता मन ही ईश्वर मन से बड़ा न कोई ,अगर मन में हो विश्वास  तब हम कठिन से कठिन चुनौती का भी सामना कर सकते है |


रेखा जोशी 

ज़िंदगी को मुस्कुराना आ गया

प्यार में दिल को लुभाना आ गया
आज फिर मौसम सुहाना आ गया 
...
रूठ  कर हमसे  न जाना तुम कहीं 
प्यार  से  साजन  मनाना आ गया 
.... 
मिल गई हमको ख़ुशी आये पिया 
ज़िंदगी  को  मुस्कुराना  आ गया 
.... 
तुम हमें जो मिल गये दुनिया मिली 
आज नैनों को लजाना आ गया 
.... 
चाह अब हम को नहीं है और  की 
अब हमें भी  घर  बसाना आ गया 

रेखा जोशी