Thursday, 2 February 2017

फिर तुम कभी न साजन यह प्यार आज़माना


-1121 2122 1121 2122

मिल कर हमें यहाँ पर अब गीत गुनगुनाना
जब प्यार ज़िन्दगी से तो  प्रीत है निभाना
,
दिन रात याद करते न रूठना कभी तुम
तुम जान हो हमारी अब छोड़ कर न जाना
,
शिकवे गिले न करना यह ज़िन्दगी सुहानी
मन में हमें छुपा लो अब साथ है ज़माना
,
चलते रहें सदा हम मिल साथ साथ साजन
तुम देखना न मुड़ कर मत प्यार तुम भुलाना
,,
यह ज़िन्दगी हमारी चलती रहे सदा यूँ
फिर तुम कभी  न साजन यह प्यार आज़माना

रेखा जोशी