Thursday, 31 August 2017

मुक्तक


किसने वादा किया है आने का
बहाना है हृदय को  जलाने का
इंतज़ार की भी अब हद हो गई
हो गया वक़्त यहां से जाने का

रेखा जोशी