Tuesday, 23 October 2018

शरद  के चाँद  से  बरसे

शरद  के चाँद  से  बरसे
अमृत सी रस की किरणें
बिखरी चाँदनी  धरा पर
तन मन को शीतल  करे

No comments:

Post a Comment