Thursday, 16 January 2020

शुक्रिया जो तुम आए

काट ली थी जिंदगी हमने तो

तन्हा तन्हा

मुद्दतों बाद अब जा कर कहीं

दिल की दहलीज़ पर वक़्त ने दस्तक दी है

मेहरबान हुआ अब जा कर कहीं

खुदा हम पर

आने से तेरे हुआ है असर कुछ ऐसा

जगमगाने लगी है अब तकदीर मेरी

पाने की तुम्हें हमने सदा हसरत की है

दिल की दहलीज पर वक़्त ने दस्तक दी है

शुक्रिया तुम्हारा जो तुम आए

महफिल में हमारी

रौशन हुआ सारा जहां हमारा

अंगना में खुशी अब खिलखिलाने लगी है

दिल की दहलीज़ पर वक़्त ने दस्तक दी है

रेखा जोशी

No comments:

Post a Comment