Tuesday, 12 November 2013

आत्म हत्या-आखिर क्यों करते है लोग ?

आत्म हत्या-आखिर क्यों करते है लोग ?

सुबह सुबह अखबार खोला तो निगाह पड़ी एक छोटी सी खबर  ,''आत्महत्या के आंकड़ों पर ,जिसमे एक वर्ष में भारत में अस्सी हज़ार पुरुष और चालीस हज़ार महिलायों द्वारा आत्महत्या का उल्लेख था '',पढ़ते ही मन खिन्न और उदास सा हो गया। आखिर क्यों करते है लोग आत्म हत्या ,कोई कैसे अपनी ज़िंदगी को  समाप्त कर देता है ?

हम सब जानते है कि अपने प्राण सबको प्यारे होते है ,हर कोई एक खुशहाल ज़िंदगी जीना चाहता है ,आखिर फिर  कौन सी मजबूरी में इंसान ऐसा घिर जाता है या कौन सा ऐसा दुखों का पहाड़ उस पर टूट जाता है कि उसके सामने ज़िंदगी के कोई मायने नही रह जाते और वह  बेबस  हो  कर मौत को गले लगा लेता है ,यह सोच कर ही रोंगटे खड़े हो जाते है ,अपने ही हाथों अपनी ज़िंदगी को मिटा देना ,आखिर क्या चल रहा होता  है उस व्यक्ति के अंतर्मन में उस समय जो उसे खुद को ही मिटा देने पर मज़बूर कर देता है l

जिंदगी माना की चुनौतियों से भरी हुई है और कई बार  हम  चुनौतियों से निपटने में अपने आप को असमर्थ पाते हैं, जीवन की कठिनाइयों को झेल नहीं पाते और खुद को मौत के हवाले कर देते हैं, लेकिन अगर उन कमज़ोर लम्हों में अपनी सोच को सकारात्मक दिशा दें और चुनौतियों से जूझने का रास्ता ढूंढने की कोशिश करें तो उन हताश पलों से निकला जा सकता है l

रेखा जोशी 


No comments:

Post a comment