Monday, 6 January 2020

विवाह एक उत्सव

विवाह एक महत्वपूर्ण सामाजिक प्रथा है, हिन्दू धर्म के अनुसार विवाह गृहस्थ आश्रम की नीव है जिसमें स्त्री पुरुष मिल कर परिवार का निर्माण करते हैं l पति और पत्नी के इस नव जीवन को सामाजिक मान्यता देने के लिए विवाह को एक उत्सव की तरह मनाया जाता है और इस समारोह को मनाने के लिए दोनों ओर के माता पिता यथा अनुसार पैसा भी खर्च करते हैं, लेकिन देखने में आता है कि कई लोग इस समारोह में अनावश्यक धन लुटाते हैं, अब हर कोई मुकेश अंबानी की तरह आमिर तो है नहीं जो शाही शादी कर सके लेकिन इस खुशी के समारोह में लोग अपनी हैसियत से ऊपर खर्च कर देते हैं, चाहे इसके उन्हें कर्ज ही क्यों न लेना पड़े l

विवाह में बजट बना कर खर्च को कई प्रकार से कम किया जा सकता है जैसे शादी की पोशाक, मंडप की सजावट, खान-पान , उपहार और कई अन्य वस्तुएँ पर अपने बजट को देखते हुए काफी पैसे बचाये जा सकते हैं। एक इवेंट मैनेजर के अनुसार शादी के खर्चों में कटौती हर तरह से जरूरी है। उनका मानना है कि इन खर्चों का कोई अंत नहीं होता। और पैसे चाहे जिसके लग रहे हों, इसका लगभग पच्चीस से तीस प्रतिशत फिजूलखर्च ही होता है। शादी में पैसे को सोच-समझ कर खर्च किया जाए, तो इन्हीं बचे हुए पैसों का इस्तेमाल बाद में कई उपयोगी चीजों पर किया जा सकता है। नई जिंदगी शुरू करने के लिए कई चीजों की जरूरत होती है, अगर आपको पैसा खर्च ही करना है, तो उसे आवश्यकता अनुसार ही खर्च करना चाहिए और फिजूलखर्ची करने से बचना चाहिए l

6 comments:

  1. नमस्ते,

    आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" में गुरुवार 09 जनवरी 2020 को साझा की गयी है......... पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!



    1937...क्योंकि लगी आग में झुलसा अपने घर का कोई नहीं होता है...



    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर आभार आपका 🙏 🙏

      Delete
  2. इस परम्परा का वहन सादगी से कर के भी बेशक़ उत्सव मनाया जा सकता है। जड़ से ही मानसिकता बदलने के लिए नी पीढ़ी को मानसिक तौर पर तैयार करना होगा।
    अम्बानी जैसे लोग भी अगर नई मानसिकता के साथ पहल करें तो उस फिजूलखर्ची से बचा कर उस पैसे से समाजोपयोगी कई काम किये जा सकते हैं।
    नमन ऐसे सराहनीय और अनुकरणीय विचार को ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर आभार आपका 🙏 🙏

      Delete
  3. बात तो आपकी एकदम सही है ,पर लोग कहाँ समझते ...एक दूसरे की देखादेखी बहुत ही अनावश्यक खर्च करते हैं ।

    ReplyDelete
  4. उत्तर देने के लिए आपका आभार 🙏 🙏

    ReplyDelete