Friday, 22 March 2013

होली


दिलों में प्यार लिए आज आई होली
मस्ती चहुं और आज लायी होली
रंगों में उमंग औ उमंगो में है रंग
लाल,गुलाल ,नीले ,पीले रंगों से रंगे
लुभा रहें है सब आज हो के बदरंग
बगिया सूनी बिन फूलों के जैसे
अधूरी है होली बिन गाली के वैसे
प्यार भरी गाली से हुआ वो कमाल
हुए गाल गोरी के लाल बिन गुलाल
गुलाबों का मौसम है बगिया बहार पे
कुहक रही कोयलिया ,अंबुआ की डाल पे
थिरक रहें आज सब हर्षौल्लास में
झूम रहें सब आज फागुन की बयार में  

10 comments:

  1. आपकी यह बेहतरीन रचना शनिवार 23/03/2013 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. कृपया अवलोकन करे एवं आपके सुझावों को अंकित करें, लिंक में आपका स्वागत है . धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. यशोदा जी आपका हार्दिक आभार

      Delete
  2. rekha ji aapko holi ki bahut bahut shubhkamnaye !

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपको भी हार्दिक शुभकामनाये प्रवीन जी

      Delete
  3. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (24-03-2013) के चर्चा मंच 1193 पर भी होगी. सूचनार्थ

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपको भी हार्दिक शुभकामनाये अरुण बेटा

      Delete
  4. बहुत सुन्दर ...
    पधारें " चाँद से करती हूँ बातें "

    ReplyDelete