Monday, 4 March 2013

भगवददर्शन [continued] 8



भगवददर्शन [continued]          'यदा यदा हि धर्मस्य ग्लानिर्भवति भारत |
                                                अभ्युत्थानमधर्मस्य तदात्मानं सृजाम्यहम् ॥
                                                परित्राणाय साधूनां विनाशाय च दुष्कृताम् |
                                                  धर्मसंस्थापनार्थाय सम्भवामि युगे युगे '॥



श्री कृष्ण भगवान् ने जिस विराट रूप का दर्शन अर्जुन को करवाया था वही दर्शन पा कर श्रद्धावान पाठक आनंद प्राप्त करें गे [लेखक प्रो महेन्द्र जोशी ]

श्री कृष्ण नमो नम:

भगवददर्शन 
[श्री मद भगवदगीता अध्याय 11 का पद्यानुवाद ]
आगे ....

43 सब जग चराचर के हो पिता तुम ,
तुम पूज्य हो गुरुओं के गुरु तुम ,
तुझ सा न कोई ,हो कैसे अधिक,
प्रभाव त्रैलोक में जिस का अमित ।

44करता नमन धर काया चरण में ,
स्तुतियोग्य तुझको प्रसन्न करने ,
ज्यों पिता पुत्र ,प्रिय प्रिय ,सखा का सखा ,
क्षमा दोष करते ,मुझे दो क्षमा ।

45 हर्षित हुआ देख रूप अदेखे ,
व्याकुल भी है मन मेरा भय से ,
अत: दिखाओ देवरूप मुझको ,
देवेश जगत निवास प्रसन्न हो ।

46 मुकुट शिर ,गदा चक्र लिए हाथ में
परम रूप अपना निज योग से ,
तेजोमय अनंत विश्वाद्य जो ,
न देखा किसी ने पहले कभी जो । 







10 comments:

  1. मंगलवार 12/03/2013 को आपकी यह बेहतरीन पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं .... !!
    आपके सुझावों का स्वागत है .... !!
    धन्यवाद .... !!

    ReplyDelete
    Replies
    1. विभा जी इस पोस्ट को नई पुरानी हलचल में शामिल करने के लिए हार्दिक आभार ,श्री मद भगवदगीताका पद्यानुवाद मेरे पापा प्रो महेंद्र जोशी ने किया है ,मे उसे अपनी साईट पर पोस्ट कर रही हूँ अपने पापा की तरफ से आपका हार्दिक आभार

      Delete
  2. जय श्री राधे |

    कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
    Tamasha-E-Zindagi
    Tamashaezindagi FB Page

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार तुषार जी

      Delete
  3. बहुत अच्छा लिखा है.

    ReplyDelete
    Replies
    1. निहार जी .मेरी साईट पर आपका स्वागत है ,रचना पसंद करने पर हार्दिक धन्यवाद ,आपका आभार

      Delete
  4. बहुत अच्छा कार्य कर रही हैं आप; हार्दिक बधाई! जय श्री कृष्ण!

    ReplyDelete
    Replies
    1. सारिका जी आप का हार्दिक आभार ,धन्यवाद, जय श्री कृष्ण

      Delete

  5. सादर जन सधारण सुचना आपके सहयोग की जरुरत
    साहित्य के नाम की लड़ाई (क्या आप हमारे साथ हैं )साहित्य के नाम की लड़ाई (क्या आप हमारे साथ हैं )

    ReplyDelete