Wednesday, 18 October 2017

फुलवारी


अँगना खिली आज फुलवारी है
फ़ूलों  से  महकी अब क्यारी  है
नाचते  झूम  झूम   मोर  बगिया
कुहुके   कोयल   डारी  डारी  है

रेखा जोशी

गणेश वंदना

गणपति बप्पा सुन लो पुकार हमारी 
डोले   नाव   बीच    मझधार  हमारी 
,
हे   गजानन   विघ्नेश्वर  विघ्नहर्ता 
लगा   दीजिये    नैया   पार   हमारी 
,
हे   गौरी  नंदन  सबके   दुःखहर्ता
सुन लो प्रार्थना   इस  बार   हमारी
,
अर्पित करे  हम मोदक  और मेवा
जिंदगी  बप्पा  दो   संवार  हमारी
,
विराजो अब भगवन बुद्धि में सदा तुम
तुम  पर  प्रभु है भक्ति  अपार  हमारी

रेखा जोशी 

Sunday, 15 October 2017

सवाल


आज सालों दिनों बाद प्रिया ने कैफे में कदम रखा, बीस साल पहले उसकी यहां से बदली हो गई थी, फिर वह घर गृहस्थी के चक्कर में ही फंस कर रह गई , टेबल पर बैठते ही बीते दिनों की यादों में खो गई l क्या दिन थे जब वह रवि के साथ यहां अक्सर आया करती था, घंटों दोनों यहां  वक्त गुज़ारा करते थे l प्रिया को रवि पर बहुत गुस्सा था, उसने शादी से इंकार क्यों कर दिया था l तभी उसे एक जानी पहचानी सी आवाज़ सुनाई दी l प्रिया ने घूम कर देखा, उसके सामने रवि था l
" "अरे, तुम यहाँ? क्या इत्तेफ़ाक़ है," कहते हुए उसने हाथ मिलाने के लिए आगे बढ़ाया ।

कैफे में साथ वाली टेबल से जब उसे किसी ने पुकारा तो उसने आवाज़ की दिशा में सिर घुमा कर देखा ।

बीस साल..... एक ही शहर में रहते हुए इतने लंबे अंतराल के पश्चात यह मुलाक़ात....

अपरिचितों से भरे कैफे के शोरो-गुल के बीच दिमाग़ जैसे सुन्न हो गया । अचंभित हो दोनों एक दूसरे को देखते रह गये ।

क्या है ईश्वर की इच्छा, सोचते हुए वो अतीत की यादों में गुम हो गये....."
कभी दोनों ने जीने मरने की कसमें भी खाई थीं, दोनों एक दूसरे को देखते रह गए लेकिन निशब्द, आँखों से आँखे मिली,प्रिया ने उसे नीचे से ऊपर तक देखा उसकी नज़र रवि के लड़खड़ाते हुए  कदमों  पर रुक गई रवि ने अपनी सीट के पास रखी छड़ी  उठाई और लंगड़ाते हुए धीरे  धीरे दरवाज़े से बाहर चला गया l प्रिया को अपने सवाल का जवाब मिल गया था l

रेखा जोशी

Saturday, 14 October 2017

दोहे


1
मीत प्रीत जाने नहीं, समझे न प्रेम प्यार
मन से जोगी जोगड़ा, सब से प्रीत अपार
2
सूरज निकला है गगन, पंछी करते शोर
जागो तुम अब नींद से, चहक उठी है भोर

रेखा जोशी

Friday, 13 October 2017

काश मिलती तुम हमें जिंदगी

अर्कान= फाइलातुन् फाइलातुन् फाइलुन्
तक्तीअ= (मापनी) 2122 2122 212
.
काश  मिलती तुम हमें ज़िन्दगी
प्यार  तेरे   संग करते  ज़िन्दगी
...
मुस्कुराते संग दोनों फिर सजन
साथ  रोते  साथ हँसते ज़िन्दगी
....
पास  आते तुम हमारे तो कभी
हम दिखाते प्यार से ये जिंदगी
....
जा रहे हम दूर तुमसे अब सजन
अब आखिरी इज़हार ले जिंदगी
....
अब हमारी इल्तिज़ा सुन लो पिया
देख  लो  जी  भर हमें  ए जिंदगी

रेखा जोशी

जिंदगी को खिलखिलाना आ गया


प्यार  हमको अब निभाना आ गया
जिंदगी को खिलखिलाना आ  गया
....
मिल गये आज दिल से दिल हमारे
हाल दिल का अब सुनाना आ गया
....
चूम कर आँचल हवाओं ने कहा
आज मौसम आशिकाना आ गया
....
खुश रहो साजन जहाँ में तुम सदा
ज़िंदगी को खिलखिलाना आ गया
....
कर रही है यह हवायें अब वफ़ा
साथ जीने का ज़माना आ गया

रेखा जोशी

Thursday, 12 October 2017

काश सच हो पाते

इंद्रधनुषी रंगों से
सजाया था हमने
महकता हुआ गुलशन
ख़्वाबों में अपने
गुलज़ार थी जिसमे
हमारी ज़िंदगी
दुनिया से दूर
मै और तुम
बाते किया करते
थे आँखों से अपनी
सपने ही सपने
कुहकती थी कोयलिया भी
बगिया में हमारी
गाती थी वो भी
प्रेम तराने
टूट गए सब सपने
खुलते ही आँखे
बिखर गए सब रंग
और हम
भरते ही रह गए
ठंडी आहें
काश सच हो पाते
वोह प्यारे
ख़्वाब हमारे

रेखा जोशी