Monday, 24 September 2012

सनम बेवफा

इतने मिले जख्म कि जख्म ही दवा बने 
न पाई ख़ुशी में ख़ुशी न रोये गम में हम 
दिल और यह दिमाग सब शून्य हो गये 
.................................................
है मुहब्बत इक फरेब औ प्यार इक धोखा 
साये में है जिसके  बस आंसूओं का सौदा 
चोट पर चोट दिल पे हम खाते चले गये
................................................
वफा को जो न समझे तुम सनम बेवफा हो
रहें गैरों की बाहों में और सिला दो वफा का 
मेरे सपनो की तस्वीर के टुकड़े हुए तुम्ही से 
.................................................
इधर दिल टूटा हमारा गूंजी सदा वादियों में 
शोर हुआ हर गली गली  अंजान रहे तुम्ही 
खामोश रही धड़कन न बनी जुबां दिल की