Tuesday, 15 April 2014

काल का पहिया निरंतर चलता जा रहा है

काल का पहिया निरंतर चलता जा रहा है
शाम ए ज़िंदगी में अब अँधेरा छा रहा है 
लम्हा लम्हा फिसलती जा रही यह ज़िंदगी
बीत गई जवानी अब बुढ़ापा आ रहा है
रेखा जोशी