Monday, 18 December 2017

सर्दी के मौसम में कंपकंपाती है ज़िन्दगी

सर्दी के मौसम में कंपकंपाती है ज़िन्दगी
घने कोहरे में भी तो मुस्कुराती है ज़िन्दगी
मिलती है गर्माहट यहां आलाव के ताप से
दोस्तों के संग फिर यहां खिलखिलाती है ज़िन्दगी

रेखा जोशी