Monday, 25 December 2017

आदमी

जिंदगी  भर  ताने   बाने  बुनता  रहता  आदमी
कैसे  कैसे  धोखे    यहाँ  करता  रहता  आदमी
दुनिया दो दिन का मेला दो दिन की जिंदगी यहाँ
न जाने क्यों  पाप का घड़ा भरता रहता आदमी
,
ख़ुद  को  रब  का  बंदा है कहता आदमी
हिंदु  मुस्लिम  सिख ईसाई  बना  आदमी
जाति  धर्म  के  बंधन में जकड़े सभी जन
मानव न  कभी भी यहां बन सका आदमी

रेखा जोशी