Friday, 29 December 2017

ग़ज़ल

ग़ज़ल
वज़न-2122/1122/1122/22
अरकान-फाइलातुन फइलातुन फइलातुन फेलुन

छोड़ कर आप मिरा प्यार किधर जाओगे
हर तरफ तेज़ हवाएँ हैं बिखर जाओगे
,
प्यार में दर्द मिला चोट है खाई हमने
देख कर दर्द हमारा तुम डर जाओगे
,
चाँदनी रात पिया चाँद उतर आया अब
आज हम साथ चलें चाँद जिधर जाओगे
,
छोड़ना तुम न कभी हाथ हमारा साजन
प्यार में साथ निभाना संवर जाओगे
,
आसमां में चमका आज सितारा साजन
देखना है उसको रात ठहर जाओगे

रेखा जोशी