Thursday, 17 November 2016

तुम मेरे पास रहो

थे कर रहे इंतज़ार
तुम्हारा
न जाने कब से
आये हो मुद्दतों के बाद
तो आओ बैठों
कुछ अपनी कहो
कुछ मेरी सुनो
तड़पते रहे
बिन तुम्हारे हम
है चाहत यही
बंध जाएँ हम दोनों
प्रेम की डोर से
सदा सदा के लिए
और
जीवन भर के लिए
मै तेरे पास रहूँ
और
तुम मेरे पास रहो
.
रेखा जोशी