Tuesday, 2 January 2018

तुम मिले ज़िन्दगी को मुस्कुराना आ गया


तुम मिले ज़िन्दगी को मुस्कुराना आ गया
हमें भी अब ख़ुशी से खिलखिलाना आ गया
छाई बहार  बाग में फूल भी महक उठे
गीत खुशी के सजना गुनगुनाना  आ गया

रेखा जोशी