Monday, 6 January 2014

बाँवरे दो नैन

 नयन   मेरे  थामे  दिल  तेरी  राहें  निहारा  करते  है
सब की निगाहों से छिपा कर तुम्हे इस दिल में रखते है 
कुछ भी करें हम पर  बाँवरे  दो नैन यह जो  है हमारे
हर  घड़ी  हर पल यादों में तेरी  तुझको  पुकारा करते  है

रेखा जोशी