Thursday, 16 November 2017

बीत जायेगा समां यह


फूल बगिया में खिलेंगे
ग़म न कर दिन यह फिरेंगे
बीत जायेगा समां यह
फिर खुशी के पल मिलेंगे

रेखा जोशी