Sunday, 26 November 2017

बादलों की ओट मुख दिखाता है चाँद

बादलों की ओट मुख दिखाता है चाँद
पानी की लहरों पे लहराता है चाँद
..
आ गये हम तो यहाँ परियों के देश में
यहाँ चाँदनी पथ पे बिखेरता है चाँद
..
दीप्त हुआ चाँदनी से चेहरा तेरा
रोशन हुआ आलम जगमगाता है चाँद
..
आये तेरी महफ़िल में अब हम भी सनम
तारों संग नभ पे मुस्कुराता है चाँद
.?

सुंदर नज़ारों को बसा लिया पलकों में
अब देख कर हमे यहाँ शर्माता है चाँद

रेखा जोशी