Thursday, 21 November 2013

सूरज की चमक

सज रही है महफ़िल चाँद तारों की चमक से 
इतरा रहे है सभी  अपनी अपनी चमक से 
लेकिन रौशन नहीं हुआ यह जहां अभी तक 
छुप जाएँगे सब गगन में सूरज की चमक से 

रेखा जोशी