Sunday, 9 June 2013

आज जिंदगी कुछ याद दिला गई है

आज जिंदगी कुछ याद दिला गई है
 सपने जो देखे वह याद दिला गई है
.................................................
वो हाथो में हाथ लिए चले थे कभी
उन्ही पलों की वो याद दिला गई है
................................................
सोचा था के उनको हम भूल चुके है
न जाने क्यों वो फिर याद आ गई है
................................................
दर्पण में देखते ही चेहरे को अपने
उनकी सूरत हमे  नजर आ गई है
................................................
वो खिलखिलाती हुई उसकी हसी
बंद पलकों में वो नजर आ गई है
.............................................
माना की तुम बहुत दूर चले गए
पर यादे तेरी  दिल में समा गई है