Wednesday, 19 June 2013

इन्द्रधनुष रंगों से स्वप्न

था इक हारा  हुआ इंसान
चकनाचूर  हुए  थे सपने
न मिल  रही थी  मंजिल
गम में डूबा था गमगीन
................................
जागी उम्मीद की किरण
दिवाकर से  मिली नजर
इन्द्रधनुष रंगों से स्वप्न
पाना उन्हें  है  बन सूरज
..................................
भर उठा जोश से फिर वह
जीवन में भरने को वो रंग
प्रकाशित कर दुनिया यह
चमकना सूरज सा है उसे