Thursday, 20 April 2017

लाल बहादुर ,गांधी से बेटे अब है कहाँ


क्या यही हमारे सपनों का है देश भारत
पूछ रही आ  स्वप्न में मुझसे माँ भारती
,
घूम रही गली गली लिये तिरंगा हाथ मे
स्नेह भरे नैनों में वोह  मूरत ममतामयी
,
है पूत अपने ही नोच खा रहे उसे आज
घौटालों  की जंजीरों में दी जकड़ी गई
,
लाल बहादुर ,गांधी  से बेटे अब है कहाँ
आँसू भर  आंखों  में पूछ शहीदों से रही
,
भूल प्यार जाने क्यों  भाई भाई लड़ रहे
देख लड़ते अपने बच्चों को वोह थी दुखी

रेखा जोशी