Wednesday, 20 September 2017

मत खेलो अब प्रकृति से मानव तुम


नीला   आसमान   मैला   हुआ   है
प्रदूषण   चहुं  ओर  फैला  हुआ  है
मत खेलो अब प्रकृति से मानव तुम
जल भी अब  यहां  कसैला हुआ है

रेखा जोशी