Thursday, 7 September 2017

दोहे

दोहे

नभ पर बादल गरजते ,घटा घिरी घनघोर ।
रास रचाये दामिनीे  ,मचा  रही  है शोर ॥
,
आँचल लहराती  हवा ,ठंडी पड़े फुहार ।
उड़ती जाये चुनरिया ,बरखा की बौछार ||
,
सावन बरसा झूम के ,भीगा तन मन आज ।
पेड़ों पर झूले पड़े ,बजे मधुर है साज़ ॥
,              
भीगा सा मौसम यहाँ  ,भीगी सी है रात ।
भीगे से अरमान है ,आई है बरसात ॥
      
कुहुक रही कोयल यहां ,अँबुआ की हर डार।
हरियाली छाई रही,है चहुँ ओर बहार।।

रेखा जोशी