Tuesday, 22 October 2013

हमारी यह जिंदगी

पल पल यूँ ही गुज़र जाती है हमारी यह  जिंदगी
छोड़ पुराना नये पल में ढल जाती है यह जिंदगी
जीतें  है यहाँ हम सब ख़ुशी और गम के अनेक पल
पल पल में छुपी मौत है याँ हँसती है यह जिंदगी

रेखा जोशी