Sunday, 6 October 2013

प्रेम सागर

जला कर ज्योति प्रेम की पार हुए भव सागर से 
तर गए संत  फकीर छलकाए  प्रेमरस गागर से 
प्रेम  पूजा  प्रेम  शिव  सबसे  प्रेम  कर  ले  तू 
बरसा  अमृत  की  बूँदे   अथाह  प्रेम  सागर  से