Tuesday, 10 June 2014

दर्द ए दिल बयाँ न कर सकी प्रियतम


दर्द ए दिल बयाँ न कर सकी प्रियतम 
पीड़ा मन  की दिखा  न सकी प्रियतम 
खिले  गुल   छाई   बहार  बगिया  में 
आस मिलन की छिपा न सकी प्रियतम 

रेखा जोशी