Monday, 23 June 2014

राहे फलक तलक फूलों से महक उठी है

अब तो सनम लगी दिल की है नयन मिला जा 
तुमसे  चहक उठा  आँगन अब चमन खिला जा 
राहे    फलक  तलक   फूलों  से  महक   उठी है 
आजा झलक  कभी तो अपनी सजन दिखा जा 

 रेखा जोशी