Friday, 27 June 2014

उड़ता जाये चंचल चितवन संग पवन के

उड़ता जाये चंचल चितवन संग पवन के
महका  जाये  मेरा  आँगन संग पवन के 
नील गगन में  घिर आये  है काले बादल
बरसता  जाये  यहाँ सावन संग पवन के

रेखा जोशी