Saturday, 16 March 2013

आये जो तुम संग आई बहारें


पल पल हम तुमको है निहारें
आये जो  तुम संग आई बहारें
..........................................
महकती चांदनी ने चूमा आंगन
बहने लगी सुहानी शीतल पवन
सुरमई शाम का स्नेहिल स्पर्श
थिरकने लगा ये मन भर उमंग
...........................................
पल दो पल जो तुम हमसे मिले
वीरान राहों में गुलाब खिल गए
बिखर गई महक  इन हवाओं में
गुनगुनाने लगी बहारें सब ओर
..........................................
बजने लगी शहनाई मन में मेरे
नाच उठा झंकृत मेरा तन बदन
लब पर आ गए तराने प्यार भरे
गाने लगी फिजायें संग संग मेरे
..........................................
पल पल हम तुमको है निहारें
आये जो  तुम संग आई बहारें