Thursday, 12 May 2016

मुस्कुराना यहाँ ज़िंदगी आज फिर

चाह  तेरी  हमें  खींच  लाई सजन 
याद  तेरी   हमे    रुसवाई   सजन 
मुस्कुराना यहाँ ज़िंदगी आज फिर 
आस  दिल में हमारे  समाई सजन 

 रेखा जोशी