Thursday, 2 June 2016

मनमंदिर में राम समाया,मोहे प्रभु मिली प्रीति

मनमंदिर में राम समाया,मोहे प्रभु मिली प्रीति 
मंदिर में मनमीत बसाया,   मन की सूनी  भीति
शीश  धरूँ भगवन चरणन में  नाम  जपूँ मै तेरा 
निर्भय  बनाये  नाम तिहारा , साची तेरी  भक्ति 

रेखा जोशी