Tuesday, 28 June 2016

कुदरत को भी अब मुस्कुराना आ गया

तुम  पर हमारा  दिल दीवाना आ गया
कुदरत को भी अब मुस्कुराना आ गया
आने   से    तेरे    आ    गई   है   बहारें
लो आज यहाँ  मौसम सुहाना आ गया

रेखा जोशी