Tuesday, 14 June 2016

आसमाँ पर रौशनी थी

आसमाँ पर रौशनी थी 
चाँद की वह चॉंदनी थी 
.... 
जब झुका था आसमाँ तब 
यह ज़मीं  भी मचलती थी 
..... 
याद तेरी जब सताती 
मधुर बजती बांसुरी थी  
,,,,,,
हमसफर ने हाथ थामा
प्यार की मंज़िल मिली थी
....
तुम चले आओ यहाँ  पर
प्यार में  बन्दगी  थी  
.....
रेखा जोशी