Thursday, 16 March 2017

दिल हमारे को खिलौना जान कर


देख हमको खिलखिलाकर चल दिये
आग सीने में लगा कर चल दिये
,,
रात में वो चाँद छुप कर खो गया 
चाँदनी भी वो  चुरा कर चल दिये
,,
राह में हमको अकेला छोड़ कर
आसमाँ  से तुम  गिराकर चल दिये
,,
दिल हमारे को खिलौना जान कर
तोड़ इसको मुस्कुरा कर चल दिये
,,
ज़िन्दगी ने  है दिखाये गम हमें 
दर्द में हमको डुबा कर चल दिये

रेखा जोशी