Tuesday, 21 March 2017

हाथ जोड़ कर शीश झुकाये कर प्रभु सिमरन
धरम   करम कर  चार दिन की चांदनी जीवन
छूट  जायेंगे   मोह    माया   के  चक्र  से फिर
कर  जाप   प्रभु  का  बन्दे  कट  जायेगे बंधन

रेखा जोशी