Friday, 3 March 2017

घायल किया ह्रदय हमारा


कैसे रखें सजन अब धीर
दी तुमने यह  कैसी   पीर
घायल किया ह्रदय हमारा
चुभे   तेरे  शब्दों  के तीर