Friday, 2 February 2018

फूल  देख भँवरे को गुनगुनाना आ गया

फूल  देख भँवरे को गुनगुनाना आ गया
महफिल  में तेरी  यहाँ  दीवाना आ गया
जलने की परवाह नहीं पगला  है वह तो
शमा पर मर मिटने को परवाना आ गया

रेखा जोशी