Sunday, 18 August 2013

हसरत

न चाहते हुये  भी हम तुम  को चाहते है
हँसती  है   आँखे  कभी आंसू बरसते  है
हसरत तुम्हारी ने हमें दीवाना बना दिया
मन ही मन हम तेरे प्यार को तरसते है