Monday, 19 August 2013

सावन


सावन की भीगी रातों  में ठंडी  फुहार रुलाती है 
घनघोर घटा संग दामिनी गगन पर रास रचाती है 
छुप गया चंदा बदरा  संग तारों की बारात लिये 
लगा कर अगन शीतल हवायें बिरहन को सताती  है 

रेखा जोशी