Saturday, 17 August 2013

प्रेम ही सत्य है

जीवन दुखों का घर ,हर कोई रोता है
ढाई अक्षर प्रेम के ,जो यहाँ पढ़ लेता है
दुखों को पार करे ,औ तर जाए वह तो,
पूरा संसार मिथ्या ,प्रेम ही सत्य होता है

रेखा जोशी