Friday, 19 September 2014

ज़िन्दगी की धूप छाया में

फूल   काँटों  साथ  खिलते  है
सुख कभी दुख साथ मिलते है 
ज़िन्दगी  की  धूप  छाया   में 
हमसफ़र   ही  साथ  चलते  है 

रेखा जोशी